Breaking News

खेती कर गुजारा करने वाली महिला किसान ने पास की केपीएससी की परीक्षा

कहते हैं मुसीबतों कितनी भी हों, इंसान को उनका डटकर सामना करना चाहिए। इस कहावत को सार्थक साबित करके दिखाया है केरल की एक महिला किसान ने। उसने अपनी मेहनत से न सिर्फ अपनी जिंदगी संवारी बल्कि अपनी मां और दादी का भी भविष्य संवार दिया है।

पहली बार में पास की परीक्षा

बता दें, केरल के वंदीपेर्रियार के छोट्टूपोरा नामक गांव की सेल्वाकुमारी ने पहले ही अटेम्प्ट में केरल पुलिस सर्विस कमिशन का एग्जाम पास किया है। उन्होंने यह कारनामा इलायची के खेतों में काम करते-करते कर दिखाया है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, सेल्वाकुमारी के पिता उसे और उसकी मां को कई सालों पहले छोड़कर चले गए थे। इसके बाद घर की सारी जिम्मेदारी सेल्वा की मां पर आ गई। सेल्वा की दादी भी बीमार रहती थीं, उनकी दवाइयों का भी खर्च था। ऐसे में सेल्वा की मां ने घर चलाने के लिए खेती-बाड़ी करना शुरु किया।

उनके पास खुद की जमीन नहीं थी जिसकी वजह से वे दूसरों के इलाइची के खेतों पर जाकर काम करती थीं और जो भी आमदनी होती थी उससे घर का खर्च और सेल्वा की पढ़ाई चलती थी।

एमफिल में किया टॉप

मालूम हो, सेल्वा ने पास के ही सरकारी स्कूल से शुरुआती शिक्षा पूरी की। इसके बाद उन्होंने तिरुवनंथपुरम के गवर्मेंट विमेन्स कॉलेज से मैथ्स में ग्रैजुएशन किया। इसके बाद उन्होंने एमफिल किया और उसमें टॉप किया। इस दौरान कॉलेज में उनका काफी मजाक उड़ाया जाता था। इसकी वजह थी मलयालय। दरअसल, सेल्वाकुमारी को मलयालम में बात करने में दिक्कत होती थी। जिसकी वजह से क्लास में बच्चे उनका मजाक उड़ाते थे। इस सबके बावजूद उन्होंने हार नहीं मानी और एमफिल में टॉप करके सबके मुंह बंद कर दिए।

ऑफिसर बनीं सेल्वाकुमारी

जानकारी के अनुसार, सेल्वा अपनी पढ़ाई के दौरान अपनी मां का हाथ बंटाने के लिए खेतों पर भी जाती थीं। इसी समय उन्होंने केरल पीएससी की परीक्षा दी जिसे उन्होंने पहली ही बार में पास कर लिया।

About Editorial Team

Check Also

1800 करोंड़ की लागत से बनकर तैयार हुआ यदाद्रि मंदिर, दरवाजों पर लगा है 125 किलो से अधिक सोना

साउथ इंडिया के मंदिरों की बात ही निराली होती है। यहां के लोगों में ईश्वर …

Leave a Reply

Your email address will not be published.