Breaking News

4 बार शादी करते-करते रह गए थे रतन टाटा, खुद बताई आजीवन कुंवारे रहने की वजह

टाटा ग्रुप के चेयरमैन और सीईओ रतन टाटा अपने लक्जीरियस लाइफस्टाइल के लिए पूरी दुनिया में प्रसिद्ध हैं। उनका नाम दुनियाभर के अमीरों की सूची में शामिल है। टाटा का कारोबार लगभग 80 से ज्यादा देशों में फैला हुआ है। टाटा ग्रुप समय-समय पे लोगों की मदद के लिए भी आगे आता रहता है। कहा जाता है कि रतन टाटा को बहुत कुछ अपने पिता से मिला लेकिन उनका जीवन फिर भी संघर्षों से भरा रहा है।

बहरहाल, आज हम आपको रतन टाटा के निजी जीवन से जुड़े उस किस्से के विषय में बताने जा रहे हैं जिसकी वजह से वे आज तक कुंवारे हैं। शादी को लेकर पूछे गए सवाल पर रतन टाटा ने कहा था कि, ‘मेरी जिन्दगी में ऐसा दौर आया कि मेरी 4 बार शादी होते-होते रह गई। जब भी शादी करने का समय होता तो किसी न किसी वजह से शादी होते होते रह जाती लेकिन मुझे खुशी भी है कि जब मैं आज उन लोगों को देखता हूं तो लगता है कि मेरे साथ जो कुछ भी हुआ वह बहुत ही अच्छा था।‘

युद्ध की वजह से नहीं हो सकी शादी

इस इंटरव्यू के दौरान उन्होंने आगे बताया कि भारत-चीन युद्ध की वजह से वे अपने पहले प्यार से शादी नहीं कर पाए थे। रतन टाटा ने कहा था कि, ‘जब मैं अमेरिका में काम कर रहा था उस समय मुझे एक लड़की से प्यार हो गया था और हम दोनों ने भारत वापस आने पर शादी करने की सोच ली थी। जब मैं भारत आया और मेरे बाद लड़की आने वाली थी लेकिन उसी वर्ष भारत चीन के बीच युद्ध छिड़ चुका था। इस युद्ध में चीन का साथ अंदरूनी रूप से अमेरिका कर रहा था।‘

टाटा ने आगे बताया कि, ‘जिस लड़की से मैं प्यार करता था उसके माता पिता उसे भारत चीन युद्ध की वजह से भारत आने से रोक दिया गया और मेरा रिश्ता इसी वजह से टूट गया था। उस लड़की ने भी अमेरिका में ही शादी कर ली’। टाटा ने उस लड़की के साथ बिताए समय को बहुत यादगार बताया। टाटा ने आगे कहा कि मैं 7 सालों से भारत नही आया था। इस बीच मेरी दादी का स्वास्थ्य खराब होने से मैं 1962 में भारत वापस आया था

जब रतन टाटा से पूछा गया कि अब भी उनके दिल में किसी महिला की यादें हैं इस पर रतन टाटा ने इस बात को मान लिया। उन्होंने कहा कि मेरे दिल में आज भी यादें बसी हुई हैं।

About Editorial Team

Check Also

1800 करोंड़ की लागत से बनकर तैयार हुआ यदाद्रि मंदिर, दरवाजों पर लगा है 125 किलो से अधिक सोना

साउथ इंडिया के मंदिरों की बात ही निराली होती है। यहां के लोगों में ईश्वर …

Leave a Reply

Your email address will not be published.