Breaking News

10वीं में किया टॉप, आर्थिक स्तिथि खराब होने के कारण ग्रामीणों ने ली पढ़ाई की जिम्मेदारी

कहते हैं हिम्मत करने वालों की कभीभार नहीं होती,.जब किसी काम को करने का ठान लेते हो तो आपके सामने कोई भीं परेशानी हो आप उसका डट कर सामना कर ही लेते हो.और ऐसा ही कर दिखाए बिहार की रहने वाली एक लड़की ने.दरअसल इस लड़की का नाम मंजू प्रियांशु कुमारी है.जिसने बहुत सारी कठिनाइयों का सामना कर बिहार के 10 वीं परीक्षा में जिला में टिप करने का रिकॉर्ड बनाया है.प्रियांशु ने सिर्फ आपने परिवार का ही नही बल्कि पूरे गांव का नाम रौशन कर दिखाया है.और 472 अंकों के साथ जिला टॉप किया.

गांववालों ने किया पल पोस कर बड़ा

बता दें की प्रियांशु कुमारी शुरू से ही आर्थिक संकट से जूझ रही हैं.कारण इनके पिता को प्रियांशु के जन्म से पहले ही छोड़ कर चले जान.लेकिन आर्थिक तंगी के बाद भीं प्रियांशु ने हिम्मत नही हारी.और पूरी लगन और मेहनत के साथ पढ़ाई किया.और मुसीबत को पार करते हुए 10 वीं में यह सफलता को प्राप्त किया.पिता को को देने के बाद प्रियांशु की मां, दादी और पूरे गांव ने प्रियांशु को पाल पोस कर बड़ा किया है.मीडिया रिपोर्ट के अनुसार प्रियांशु की दादी और मां ने छोटे मोटे काम कर प्रियांशु को पढ़ाया लिखाया है.

अब गांव वाले ने उठाई जिम्मेदारी

प्रियांशु ने जिला टॉप करके पूरे गांव का नाम रौशन कर दिखाया है.और ऐसे में प्रियांशु की आगे की पढ़ाई के लिए पूरा गांव आगे आया है.प्रियांशु को आर्थिक सहायता के लिए लोगों ने एक कमिटी का गठन किया और रिटायर्ड फौजी संतोष कुमार और गांव के मुखिया दयानंद प्रसाद इस कमिटी के मुख्य चेहरे है.प्रियांशु के गांव वालों ने कमिटी के रूप में अब इसकी पढ़ाई लिखाई के लिए सहायता करेंगे.

IAS बनना चाहती है प्रियांशु

बता दे की प्रियांशु का 10वीं में जिला टॉप करने के बाद उनका हौसला काफी बुलंद है.और वह भविष्य में आईएएस अधिकारी बनना चाहती है.प्रियांशु ने कहा की मैं इसके लिए भरपूर मेहनत करूंगी और.एक काबिल आइएएस अधिकारी बन कर अपने घरवालों का ही नही बल्कि पूरे गांव का नाम फैशन करूंगी.

बात चीत में प्रियांशु ने कहा

बात चीत करते हुए प्रियांशु ने कहा की मैने बचपन से ही आर्थिक तंगी देखी है.और मैने इसका डट कर मुकाबला किया है.और मेरी घर की हालात ठीक न होने के कारण मेरी पढ़ाई में बहुत सारी अड़चने आई .जिससे मुझे काफी समस्या का सामना करना पड़ा है.प्रियांशु ने बताया की गांववलों ने अब एक कमिटी का गठन किया है.और इसमें नौकरी पेशा वाले लोगों को जोड़ा गया है.कमिटी ने आश्वासन दिया है के अब मेरी आर्थिक स्तिथि ठीक हो जाएगी .और मैं पढ़ाई पर ज्यादा फोकस कर पाऊंगी.प्रियांशु ने आगे बताया की अगर मेरे जीवन में इतनी समस्या न होती तो शायद मेरा रिजल्ट और भी बेहतर होता.गांव वालों ने एक कॉमिटी बनाकर एक संदेश दिया है.जहां आज के ज़माने में अपने पीछा छुड़ा लेते हैं. वहीं गांववाले प्रियांशु के लिए इतना कुछ करते दिखाई दे रहे हैं.

About Editorial Team

Check Also

दी कश्मीर फाइल्स के साथ साथ बॉलीवुड की यह फिल्में भी इन देशों में कर दी गई बैन, कारण जानकर हैरान हो जाएंगे आप

आज की इस लेख में हम बात करने जा रहे हैं बॉलीवुड इंडस्ट्री की बनी …

Leave a Reply

Your email address will not be published.