Breaking News

अपनी पत्नी को 4 किलोमीटर ठेले पर लेकर पहुंचा अस्पताल, अंत में गवानी पड़ी जान

हम अपने आस पास ऐसी हो रही घटना को सुन ही लेते हैं.जिससे हमारे दिल को दुख पहुंचता है.और इस घटना में सरकार की नाकामी भी दिखती हैं.बता दें की एक ऐसा ही शर्मसार कर देने वाला वाकिया यूपी के बलिया जिले से आ रहा है.जहां पर एक बुजुर्ग अपनी बीमार पत्नी को ठेले पर लेकर अस्पताल पहुंचा जहां फिर भी उसकी जान नही बचा पाया.आपको बता दें की इस बुजुर्ग ने करीब 4 किलोमीटर अपनी पत्नी को ठेले पर लेकर अस्पताल पहुंचा.लेकिन बदकिस्मती से वह अपनी पत्नी की जान गवा बैठा.आरोप है की अस्पताल प्रशासन की ओर से उसे एंबुलेंस मोहय्या नही कराई गई.

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार मारी हुई चिलकहर ब्लॉक के अंदौर निवासी शुकुल राजभर की पत्नी की तबियत खराब चल रही थी.बता दें की शुकूल राजभर की पत्नी का नाम जोगिना देवी था.जो करीब 55 वर्ष की थी.और जोगीना देवी बीमार चल रही थी.जिसके कारण उनके पति को किसी प्रकार का संसाधन नहीं मिलने के कारण उन्हें एक ठेले पर ही पत्नी को अस्पताल ले जाना पड़ा.और वह अपनी पत्नी को ठेले पर ही बैठकर पीएचसी की तरफ बढ़ गए.

अपनी पत्नी को ठेले पर अस्पताल लेकर पहुंचा बुजुर्ग

शुकुल अपनी पत्नी को करीब 4 किलोमीटर तक का सफर तय करके वह अपनी पत्नी को पीएचसी पहुंचते है.पीएचसी पहुंचने के बाद डॉक्टरों ने उनकी पत्नी को देखा और कहा की उनकी तबियत काफी नाजुक है.और ऐसे में उन्होंने मरीज को जिला अस्पताल रेफर कर दिया.जिससे बाद शुकुल अपनी पत्नी को लेकर जिला अस्पताल पहुंचे.लेकिन फिर भी उनकी जान नहीं बच सकी.लेकिन अब सवाल यह पैदा होता है किं जब बुजुर्ग पीएचसी पहुंचा तो वहा से से उसे सदर अस्पताल के लिए एंबुलेंस मुहैया क्यों नहीं कराई गई.अगर समय पर अस्पताल परशहशन द्वारा एंबुलेंस मोहाय्या कराई जाती तो शायद इस महिला की जान बचाई जा सकती थी. वहीं इस घटना के बाद अस्पताल के चिकत्सा प्रभारी परशांत ने बताया की पीड़ित ने एंबुलेंस के लिए फोन नहीं किया.

10 किलोमीटर पैदल चल युवक ने अपनी बेटी को अस्पातला पहुंचाया

बता दें की इस घटना के पहले भीं देश में इससे मिलती जुलती घटना घट चुकी है.इससे पहले छत्तीसगढ़ के सरजुगना जिले से एक घटना सामने आई थी जहां पर एक व्यक्ति ने अपनी बेटी का शाह लेकर 10 किलोमीटर पैदल चला था.यह पर भी एक पिता ने लगभग 10 किलोमीटर की दूरी तय कर अमदला गांव के निवासी ईश्वर दास अपनी बेटी के इलाज के लिए लखनपुर के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पहुंचे थे.

About Editorial Team

Check Also

दी कश्मीर फाइल्स के साथ साथ बॉलीवुड की यह फिल्में भी इन देशों में कर दी गई बैन, कारण जानकर हैरान हो जाएंगे आप

आज की इस लेख में हम बात करने जा रहे हैं बॉलीवुड इंडस्ट्री की बनी …

Leave a Reply

Your email address will not be published.