Breaking News

अद्भुतः ट्राम को बदलकर बनाया रेस्टोरेंट, मिलता है लज़ीज फूड

पश्चिम बंगाल की राजधानी कोलकाता और ट्राम्स का रिश्ता किसी से छुपा नहीं रहा है। समय के साथस भले ही ट्राम अब खत्म हो गए हैं लेकिन एक ज़माना था कि यातायात का एकमात्र साधन ट्राम ही हुआ करते थे। हालांकि, अब वे इतिहास के पन्नों में ही छप कर रह गए हैं। ऐसा नहीं है कि ट्राम अभी नहीं चलते हैं। ये आज बी हैं लेकिन बहुत कम ही लोग इनका उपयोग करते हैं। जब लोग कहीं घूमने जाते हैं तो एडवेंचर के तौर पर ट्राम का इस्तेमाल करते हैं।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, ट्राम्स को लोग भुला ना दें इसलिए पश्चिम बंगाल की ममता सरकार ने इन्हें लेकर बड़ा फैसला लिया है। राज्य की ममता सरकार ने एक ट्राम कोच को 20 सीटर रेस्टरोंरेंट में बदले का फैसला किया है।
बता दें, कोलकाता के न्यूटाउन के पास मदर वैक्स म्यूज़ियम के निकट द ट्राम नाम से एक रेस्टोरेंट खोला गया है जिसमें तकरबीन 20 लोग एक साथ बैठकर स्ट्रीट फूड का आनंद ले सकते हैं। न्यूटाउन कोलकाता डेवलपमेंट अथॉरिटी द्वारा इस रेस्टोरेंट को तैयार किया गया है।

जानकारी के मुताबिक, इस रेस्टोरेंट में जाकर खाने का मज़ा ग्राहक दोपहर 12 बजे से लेकर रात 9 बजे तक ले सकते हैं। यहां आकर ग्राहकों को पुराने कोलकाता का अनुभव मिलता है। अथॉरिटी ने ट्राम रेस्टोरेंट के आस-पास रंगोरोगन भी किया है। यहां लगे लैम्प पोस्ट्स पर पुरानी फ़िल्मों के पोस्टर लगाए गए हैं और पिलर्स पर पुराने कार्टून बनाए गए हैं।

गौरतलब है, यहां आने वाले लोगों को 1873 का वो नज़ारा याद आ जाता है जब पहली बार घोड़ों के जरिये शहर में ट्राम्स चलाई जाती थीं। बता दें, पहली बार ट्राम लंदन में 1880 में चलाई गई थी। ट्रामवे कंपनी शहर में ट्राम्स चलाती थी।

About Editorial Team

Check Also

1800 करोंड़ की लागत से बनकर तैयार हुआ यदाद्रि मंदिर, दरवाजों पर लगा है 125 किलो से अधिक सोना

साउथ इंडिया के मंदिरों की बात ही निराली होती है। यहां के लोगों में ईश्वर …

Leave a Reply

Your email address will not be published.