Breaking News

बजरंगबली का सच्चा भक्त! चारों दिशाओं में बनवाई प्रतिमा

इस दुनिया में दो तरह के लोग होते हैं पहले वे जिन्हें ईश्वर में विश्वास होता है उन्हें आस्तिक कहा जाता है। वहीं, दूसरे वो जिन्हें ईश्वर में कतई भी विश्वास नहीं होता है, इन्हें नास्तिक कहा जाता है। वैसे तो देश में दोनों ही तरह के लोग पाए जाते हैं लेकिन इनमें आस्तिकों की संख्या अधिक है। इसका कारण है भारतीय संस्कृति। यहां के लोगों को बचपन से ही धर्म-कर्म के विषय में बताया जाता है। यही कारण है कि भारत में हर काम की शुरुआत ईश्वर के नाम से की जाती है।

बहरहाल, आज हम आपको ईश्वर के एक सच्चे भक्त से मिलवाने जा रहे हैं जिसने अपनी भक्तिभाव का परिचय देते हुए कुछ ऐसा कर दिखाया है जिसने लोगों को ईश्वर के प्रति और अधिक प्रेरित करने का काम किया है। बता दें, दिल्ली के मशहूर एंटरप्रेन्योर और उद्योगपति निखिल नंदा बजरंगबली के सच्चे भक्त हैं। यह बात उनके कर्मों से सिद्ध हो चुकी है। निखिल का मानना है कि आज जो कुछ भी उनके पास है उसके पीछे सिर्फ और सिर्फ हनुमान दी का आशीर्वाद है।

चारों दिशाओं में स्थापित होगी प्रतिमा

यही वजह है कि निखिल ने ब्रह्मांड की चारों दिशाओं में हनुमान जी की प्रतिमा स्थापित करने का प्रण किया है। ऐसा करके वे हनुमान चार धाम बना रहे हैं।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, इस प्रोजेक्ट की शुरुआत मशहूर इंडस्ट्रियलिस्ट द्वारा 2008 में की गई थी। इसमें सबसे पहले निखिल नंदा ने हिमाचाल प्रदेश के शिमला स्थित जाखू मंदिर में 108 फ़ीट ऊंची हनुमान जी की प्रतिमा स्थापित की थी। साल 2010 में इस प्रतिमा को शर्णार्थियों और दर्शनार्थियों के लिए खोला गया था। जानकारी के अनुसार, पिछले कई वर्षों से निखिल और उनका परिवार जाखू मंदिर प्रभु के दर्शन के लिए जाते हैं। यही कारण है कि उन्होंने इस शुभ कार्य की शुरुआत इस पवित्र स्थान से की।

108 फीट ऊंची होगी प्रतिमा

वहीं, हनुमान जी चार धाम में दूसरे मंदिर की स्थापना पश्चिम दिशा में की जाएगी। इसके लिए गुजरात के मोरबी को चिन्हित किया गया है। हरीश चंदर नंदा एजुकेशन ऐंड चैरिटेबल ट्रस्ट द्वारा यहां 108 फ़ीट ऊंची हनुमान जी की प्रतिमा स्थापित की जाएगी।

रिपोर्ट्स के अनुसार, हनुमान जी चार धाम प्रोजेक्ट के तहत तीसरी प्रतिमा दक्षिण में रामेश्वरम में लगाई जाएगी। बीती 23 फरवरी को रामेश्वरम में इस प्रतिमा का शिलान्यास भी कर दिया गया। इस प्रतिमा को 100 करोंड़ की लागत से तैयार किया जाएगा जो कि 108 फ़ीट ऊंची होगी। वहीं, चौथी प्रतिमा को उत्तर दिशा में किसी पावन स्थल पर स्थापित किया जाएगा। इस विषय में काम जारी है।

गौरतलब है, निखिल नंदा की कंपनी जेएचएस स्वेन्दगार्ड लेबरॉटरीज़ देश की शीर्ष टूथब्रश मैन्युफ़ेक्चरिंग कंपनीज़ में से एक है। इससे उन्हें करोड़ों की आमदनी होती है।

About Editorial Team

Check Also

1800 करोंड़ की लागत से बनकर तैयार हुआ यदाद्रि मंदिर, दरवाजों पर लगा है 125 किलो से अधिक सोना

साउथ इंडिया के मंदिरों की बात ही निराली होती है। यहां के लोगों में ईश्वर …

Leave a Reply

Your email address will not be published.