Breaking News

हाय किस्मत! भूख से हारकर अपने ही बच्चे बेचने को मजबूर हुए अफगानी

तालिबान द्वारा अफगानिस्तान में सत्ता हस्तांतरण के बाद पिछले कुछ महीनों में देश के हालात बदतर हो चुके हैं। यहां की आर्थिक स्थिति दिन-प्रतिदिन बिगड़ती जा रही है। लोगों के पास खाने-पीने तक के पैसे नहीं है। कई लोग भूख से तड़पकर जान दिए दे रहे हैं। आलम यह है कि अब इस देश के निवासी अपने बच्चों तक को बेचने के विषय में सोचने लगे हैं।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, तालिबान द्वारा किए गए कब्जे के बाद यहां की आमदनी शून्य हो चुकी है। लोगों के पास जो पैसा जमा था वह भी धीरे-धीरे खत्म होने लगा है। लोग भूंख से तड़प रहे हैं, उनके पास खाने को कुछ नहीं है। बता दें, इंजिल के कुछ लोगों ने गरीबी से आहत लोगों को चंद पैसों का लालच देकर उनकी किडनी तक निकलवा ली और इसे काला बाज़ार में बेंच दिया।

एक दंपति ने मीडिया चैनलों से बात करते हुए बताया कि उन्होंने भंख से तड़पते 8 बच्चों को पालने के लिए अपनी एक किडनी बेच दी। इसके अलावा अब वे अपने सबसे छोटे बच्चे को भी बेचना चाहती हैं। उनका मानना है कि ऐसा करने से उनके एक बच्चे का जीवन तो सुरक्षित हो जाएगा।

वहीं, हेरात के एक गांव से मिली जानकारी के अनुसार, एक मां ने अपने तीन साल के बेटे को खो दिया। उसका बेटा भूख से तड़प-तड़पकर मर गया। मालूम हो, यहां के लोगों का मानना है कि इस तरह से किडनी बेंचकर वे कम से कम अपने बच्चों को खाना तो खिला पाएंगे। उनका कहना है कि रोज रात को भूख से बिलखते बच्चों की चीखें उन्हें परेशान करती हैं।

खबरों के मुताबिक, यही कारण है कि ये लोग अपने बच्चों को 20,000 अफगानी यानी कि 15,000 रुपयों में भी बेचने को तैयार हैं। गौरतलब है, यूरोलॉजिस्ट और किडनी ट्रांसप्लांट सर्जन डॉ नासिर अहमद ने देश में हो रही किडनी ट्रांसप्लांटेशन की घटनाओं के विषय में बताया कि उन्होंने अब तक 85 ऑपरेशन किए हैं। नासिर के मुताबिक ये किडनी ट्रांसप्लांट ऑपरेशन किडनी डोनर और खरीदार की आपसी सहमति के बाद ही किये जाते हैं।

About Editorial Team

Check Also

दी कश्मीर फाइल्स के साथ साथ बॉलीवुड की यह फिल्में भी इन देशों में कर दी गई बैन, कारण जानकर हैरान हो जाएंगे आप

आज की इस लेख में हम बात करने जा रहे हैं बॉलीवुड इंडस्ट्री की बनी …

Leave a Reply

Your email address will not be published.