Breaking News

8वीं पास इस बच्चे ने 10 साल की उम्र में खड़ी की खुद की कंपनी, बना CEO

आमतौर पर 10 साल की उम्र में माता-पिता अपने बच्चे से उम्मीद करते हैं कि वह स्कूल जाए, पढ़े-लिखे, खेले-कूदे और उनका नाम रौशन करे। लेकिन कई बार बच्चे अपने माता-पिता की उम्मीदों पर पानी फेर देते हैं या पिर इनसे कुछ अधिक कर जाते हैं। ऐसा ही एक मामला जालंधर से सामने आया है। यहां की एक मिडल क्लास फ़ैमिली में पैदा हुए एक बच्चे का मन पढ़ाई में नहीं लगता था। वह हर वक्त कम्प्यूटर में लगा रहता है। यहां तक कि जब उसके माता-पिता पढ़ाई के लिए कहते तो वह बाकी सब्जेक्ट्स छोड़कर कंप्यूटर की ही पढ़ाई पढ़ता।

हैरानी की बात ये है कि 8वीं तक आते-आते इस बच्चे ने कंप्यूटर से जुड़े तमाम सॉफ्टवेयर्स पर काम करना सीख लिया था। वह एनिमेशन, वेब डिजाइन, टेक सिक्योरिटी और एथिकल हैकिंग जैसी स्किल्स सीख गया था जिसके बाद इस बच्चे ने वो करके दिखाया जिसके विषय में कोई सोंच भी नहीं सकता था।

पिता से सीखे गुण

10 साल के तनिश मित्तल ने इतनी छोटी सी उम्र में इनोवेब टेक नाम से एक कंपनी की स्थापना करके सभी को चौंका दिया है। जानकारी के अनुसार, तनिश ये सारे गुण अपने पिता नितिन नित्तल से सीखे हैं। वे खुद कंप्यूटर साइंस में ग्रेजुएशन की डिग्री ले चुके हैं। वे जब भी छुट्टियों में घर पर होते थे तो वे तनिश के सामने बैठकर काम किया करते थे जिसे उनका बेटा काफी ध्यान से देखता था।

बेटे के इंट्रेस्ट को देखते हुए पिता ने उन्हें 6 साल की उम्र में कम्प्यूटर का बेसिक पाठ पढ़ा दिया था। इसके बाद तनिश ने खिलौने छोड़ दिए और कंप्यूटर को ही अपना साथी बना लिया। 9 साल की उम्र तक उनह्हें इंटरनेट की भी अच्छी खासी नॉलेजे हो गई जिसका उपयोग करके उन्होंने एनीमेशन, ऑडियो, वीडियो एडिट, फोटोशॉप, एनीमेशन, और डिज़ाइन जैसे कामों को सीखना शुरु कर दिया।

8वीं के बाद छोड़ी पढ़ाई

आपको जानकर हैरानी होगी कि तनिश ने एक दिन अपने पिता के सामने स्कूल छोड़ने की बात कही। उन्होंने कहा कि वे स्कूली पढ़ाई छोड़कर कुछ और करना चाहते हैं। उनके पिता ने उनकी इस इच्छा का सम्मान किया और उन्हें एक प्राइवेट कॉलेज में कंप्यूटर साइंस में डिप्लोमा कराने का फैसला किया। हालांकि, तनिश की उम्र देखकर हर कोई उन्हें एडमिशन देने से मना कर देता। लेकिन एक कॉलेज ने उनकी नॉलेज की कद्र करते हुए उन्हें एडमिशन दे दिया।

इसके बाद उन्होंने जालंधर में होने वाले साइंस इवेंट्स में भाग लिया, जिससे उन्हें बहुत फायदा मिला। इन इंवेंट्स में आने वाले लोगों ने उनके काम को खूब सराहा, जिसकी वजह से तनिश इतनी छोटी सी उम्र में आगे बढ़ सके।

सम्मानित हुए तनिश

गौरतलब है, आज तनिश अपनी खुद की कंपनी चलाते हैं। उनकी कंपनी वेब डेवलपमेंट, क्लाउड बेस्ड सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट, एनिमेशन, विजुअल इफेक्ट्स आदि को लेकर काम करती है। तनिश को उनके इस कारनामे के लिए ‘यंगस्ट आंत्रप्रेन्योर’ के अवार्ड से सम्मानित किया जा चुका है।

About Editorial Team

Check Also

दी कश्मीर फाइल्स के साथ साथ बॉलीवुड की यह फिल्में भी इन देशों में कर दी गई बैन, कारण जानकर हैरान हो जाएंगे आप

आज की इस लेख में हम बात करने जा रहे हैं बॉलीवुड इंडस्ट्री की बनी …

Leave a Reply

Your email address will not be published.