Breaking News

अमेरिका की प्रथम महिला पुजारी, 35 मिनट में करवा देती हैं विवाह

परिवर्तन संसार का नियम है। समय के साथ परंपराओं में भी बदलाव जरुरी हो जाता है अन्यथा वे किसी रुढ़िवाद से कम नहीं होती हैं। सदियों से हिंदू धर्म में धार्मिक अनुष्ठानों की जिम्मेदारी पुरुष ही निभाते आए हैं। किसी भी शुभ कार्यक्रम में पुरुष ही पुजारी के रुप में बुलाए जाते हैं और उनसे कार्यक्रम की रुप रेखा तय करवाई जाती है।

हालांकि, अब इस परंपरा में बदलाव आने लगा है। अब पुरुषों की जगह महिलाओं ने पूजा-पाठ कराना प्रारंभ कर दिया है। आज हम आपको ऐसी ही एक महिला के विषय में बताने जा रहे हैं जिन्होंने हिंदू धर्म के इतने पुराने रिवाज में बदलाव किया है।

‘पर्पल पंडित प्रोजेक्ट’

इस महिला का नाम सुषमा द्विवेदी है। ये अमेरिका में रहती हैं। ये ऑर्गनिक फूड कंपनी डेली हार्वेस्ट की वाइस प्रेसिडेंट होने के साथ-साथ ‘पर्पल पंडित प्रोजेक्ट’ नाम से एक संस्था चलाती हैं। इस संस्था की स्थापना सुषमा ने साल 2016 में की थी। इस संस्था के माध्यम से वे समलैंगिक लोगों का विवाह कराती हैं। गौरतलब है, सुषमा स्वयं इन विवाहों को करवाती हैं। वे एक पुरोहित हैं।

sushma dwivedi becomes america first female priest

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, सुषमा अमेरिका की पहली महिला पुरोहित बन गई हैं। वे समलैंगिकों से लेकर तमाम जाति, संप्रदाय, रंग, नस्ल के लोगों के घर पर पूजा-पाठ करवाती हैं।

ग्रंथों का किया अध्ययन

बता दें, सुषमा का जन्म कनाडा में हुआ था। उनका परिवार भारतीय था इसलिए वे बचपन से ही हिंदू रीति-रिवाजों को देखकर ही बड़ी हुईं। उन्होंने धर्म और संस्कृति का ज्ञान अपनी दादी से लिया। उन्होंने अपनी दादी के साथ मिलकर हिंदू धर्म से जुड़े तमाम ग्रंथों को एकाग्रता से पढ़ा। इसके बाद उन्होंने इन ग्रंथों से उन मंत्रों को छांटकर निकाला जिनका किसी लिंग, भेद, नस्ल आदि से संबंध ना हो। इन मंत्रों को एक जगह पर संग्रहित करने के बाद सुषमा ने फैसला लिया कि वे पुरोहिच बनेंगी और समलैंगिक लोगों की शादियां करवाएंगी।

गौरतलब है, यही कारण रहा कि सुषमा ने अपनी धार्मिक संस्था का नाम भी पर्पल ही रखा। दरअसल, अमेरिका में पर्पल एक ऐसी संस्था है जो समलैंगिक रिश्तों के लिए प्रखर रुप से आवाज़ उठाती है।

35 मिनट में करा देती हैं शादी

बता दें, सुषमा मात्र 35 मिनट में लोगों की शादी संपन्न करवा देती हैं जबकि पारंपरिक विवाहों में 3 घंटे से ज्यादा का समय लगता है। अब बात करें सुषमा के निजी जीवन की तो उनके दो बच्चे हैं, जो अभी स्कूल में पढ़ते हैं। वहीं, उनके पति विवेक द्विवेदी अमेरिका की एक मैनेजमेंट कंपनी में चीफ इन्वेस्टमेंट ऑफिसर हैं।

About Editorial Team

Check Also

1800 करोंड़ की लागत से बनकर तैयार हुआ यदाद्रि मंदिर, दरवाजों पर लगा है 125 किलो से अधिक सोना

साउथ इंडिया के मंदिरों की बात ही निराली होती है। यहां के लोगों में ईश्वर …

Leave a Reply

Your email address will not be published.