Breaking News

14 हजार से शुरु की शुरुआत, आज बन गई है 468 अरब रुपये की कंपनी

कहते हैं इंसान अपनी सफलता की कहानी खुद लिखता है। अगर व्यक्ति मेहनती होता है तो निश्चित ही कुछ ना कुछ ऐसा कर गुजरता है जिससे पूरा समाज प्रभावित होता है। कई लोग उसे आदर्श मानते हैं और आने वाली पीढ़ी को उसका उदाहरण देते हैं।

आज हम आपको एक ऐसे व्यक्ति के विषय में बताने जा रहे हैं जिसने बहुत छोटी सी रकम से एक कंपनी खड़ी थी जो कि आज अरबों की बन चुकी है। इनका नाम हनो रेनर है। इन्होंने केवल 6 साल पहले पर्सोनियो नाम के सॉफ्टवेयर फर्म की शुरुआत की थी। इसमें उन्होंने पहली इन्वेस्टमेंट मात्र 200 डॉलर यानी कि 14 हजार रुपए की करी थी। आज की बात करें तो ये कंपनी लगभग 6.3 बिलियन डॉलर यानी कि 468 अरब रुपए की कीमत वाली बन चुकी है।

एक इंटरव्यू के दौरान हनो ने बताया था कि आज उनकी कंपनी भले ही बेहतर स्थिति में है लेकिन एक समय ऐसा भी था कि जब उनकी कंपनी की आर्थिक स्थिति खराब थी। हनो बताया कि इस दौरान भी उन्होंने हार नहीं मानी और मेहनत करते रहे, परिस्थितियों से लड़ते रहे जिसके नतीजतन आज उनकी कंपनी की मार्केट वैल्यू 6.3बिलियन हो गई है। सबसे बड़ी बात यह है कि ये सिर्फ 6 साल में उन्होंने करके दिखाया है।
इस वक्त पर्सोनियो में 1,000 से अधिक लोग काम कर रहे हैं।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, साल 2015 में हनो की मुलाकात रोमन शूमाकर, आर्सेनी वर्शिनिन और इग्नाज फोर्स्टमेयर से हुई थी। चारों की सोंच एक जैसी थी, वे कुछ अलग करना चाहते थे। यही कारण था कि उन्होंने कुछ पैसे मिलाकर पर्सोनियो नाम की सॉफ्टवेयर फर्म की शुरुआत की थी।

इस दौरान इनके पास ऑफिस की स्थापरना तक के पैसे नहीं थे, हालांकि इन्होंने मेहनत करी और जुलाई 2016 में इस कंपनी ने निवेशकों से तकरीबन 2.1 मिलियन यूरो फंड के तौर पर जमा किया। इसके बाद पर्सोनियो की किस्मत बदल गई और इसके हालात में सुधार आने लगा। देखते ही देखते आज यह कंपनी सॉफ्टवेयर इंडस्ट्री में क्रांति ला रही है।

About Editorial Team

Check Also

1800 करोंड़ की लागत से बनकर तैयार हुआ यदाद्रि मंदिर, दरवाजों पर लगा है 125 किलो से अधिक सोना

साउथ इंडिया के मंदिरों की बात ही निराली होती है। यहां के लोगों में ईश्वर …

Leave a Reply

Your email address will not be published.