Breaking News

जानिये क्या है लाल ताज महल का रहस्य, कहां पर है स्थित?

दुनिया के सात अजूबों में शामिल आगरा के ताजमहल के विषय में तो हर किसी ने सुन रखा होगा। लेकिन क्या आपने कभी लाल ताजमहल के विषय में सुना है। अगर नहीं सुना तो आज सुन लीजिये। आज हम आपके लिए प्यार की एक दास्तां लेकर आए हैं जिसने सभी को अंदर तक झकझोर कर रख दिया।

इस बात से आप सब वाकिफ ही हैं मुगलकाल के बादशाह शाह जहां ने अपनी बेगम मुमताज महल की याद में ताज महल का निर्माण करवाया था। सफेद संगमरमर से बना यह ताजमहल पिछले कई सालों से ऐसा ही खड़ा है। हज़ारों पर्यटक इसे देखने के लिए रोज़ आगरा पहुंचते हैं।

लाल ताजमहल का क्या है रहस्य?

हालांकि, लाल ताजमहल के विषय में बहुत कम लोग जानते हैं। बता दें, लाल ताजमहल पुराने रोमन कैथलिक कब्रिस्तान में स्थित है। इसका निर्माण जॉन हेसिंग की पत्नी ऐन हेसिंग ने 1803 में अपने पति की याद में करवाया था। इस लाल पत्थर की इमारत को जॉन हेसिंग की कब्र भी कहा जाता है। कहा जाता है कि पति की मौत के बाद ऐन पूरी तरह से टूट गईं थी इसलिए उन्होंने 19वीं शताब्दी में अपने सैनिकों को सफेद ताजमहल की तर्ज पर लाल पत्थर का ताजमहल बनाने का आदेश दिया था।

कौन थे जॉन हेसिंग?

जॉन हेसिंग का जन्म नीदरलैंड्स में हुआ था। वे 1763 में डच ईस्ट इंडिया कंपनी के साथ भारत आए और एक स्थानीय शासक के तौर पर काम करने लगे थे जिसके बदले उन्हें पैसे मिलते थे। शुरुआत में उन्होंने हैदराबाद के निज़ाम के लिए काम किया और बाद में वे मराठा जनरल महादजी सिंधिया की सेना में शामिल हो गए। महादजी सिंधिया की मौत के बाद उनकी जगह दौलतराव सिंधिया को मिली और हेसिंग 1799 में आगरा किले के कमांडर के रुप में नियुक्त किए गए। कहा जाता है कि लंबी बीमारी के बाद 21 जुलाई, 1803 को हेसिंग ने दम तोड़ दिया था।

पत्नी ने दिया लाल ताजमहल बनाने का आदेश

हालांकि, कुछ मीडिया रिपोर्ट्स में दावा किया जाता है कि हेसिंग मौत एक युद्ध में ही थी। कहा जाता है कि 1803 में अंग्रेजों ने आगरा के किले पर धावा बोल दिया था। इस दौरान युद्ध की रक्षा हेसिंग ही कर रहे थे। किले को बचाने में हेसिंग की मौत हो गई थी जिसके बाद हेसिंग की पत्नी बुरी तरह से टूट गईं थीं और उन्होंने लाल ताजमहल बनवाने का आदेश दिया था।

About Editorial Team

Check Also

1800 करोंड़ की लागत से बनकर तैयार हुआ यदाद्रि मंदिर, दरवाजों पर लगा है 125 किलो से अधिक सोना

साउथ इंडिया के मंदिरों की बात ही निराली होती है। यहां के लोगों में ईश्वर …

Leave a Reply

Your email address will not be published.