Breaking News

सुनामी में बचाई बच्ची की जान, पढ़ा-लिखाकर करवाई शादी, जानिये IAS राधाकृष्णन की कहानी

जिसका कोई नहीं होता उसका ऊपरवाला होता है। इस कहावत को सार्थक करके दिखाया है तमिल नाडु सरकार के पूर्व हेल्थ सेक्रेटरी और आईएएस राधाकृष्णन ने। उन्होंने एक मासूम बच्ची का जीवन बचाकर पहले तो उसे पढ़ाया—लिखाया, उसकी देखभाल की और अब उसकी शादी करवाई है।

10 हज़ार से अधिक लोगों की हुई मौत

साल 2004 में आई सुनामी तो आप सबको याद ही होगी। इस प्राकृतिक आपदा में हज़ारों परिवार बर्बाद हो गए थे। सैकड़ों बच्चे अनाथ हो गए और ना जाने कितने लोग बेघर हो गए थे। सरकारी आंकड़ों के मुताबिक, तकरीबन 10,000 से अधिक लोगों की इस सुनामी में मृत्यु हुई थी जबकि हज़ारों शव इस सुनामी में लापता हो गए थे। उनका आज तक कोई पता नहीं चला।

इन्हीं में से एक थी 5 वर्षीय छोटी सी बालिका सौम्या, जिसने अपने मां-बाप को इस भयंकर आपदा में खो दिया था। जानकारी के अनुसार, सुनामी के उस भयानक मंजर को अपनी आंखों से देखने वाली सौम्या काफी डरी-सहमी हुई थीं।

राज्य सरकार ने खोला चिल्ड्रेन होम

उन्हें राज्य सरकार द्वारा बनाए गए अन्नई साथ्य गवर्मेंट होम में लाया गया। यह एक चिल्ड्रेन होम था जिसे राज्य की तत्कालीन सरकार ने त्रासदी में अनाथ हुए बच्चों के लिए खोला था। इसमें सौम्या जैसे सैकड़ों बच्चे लाए गए थे।

इस दौरान तमिलनाडु के हेल्थ सेक्रेटरी जे.राधाकृष्णन एक दिन इस चिल्ड्रेन होम में दौरे पर आए थे। अचानक से उनकी नज़र सौम्या पर पड़ गई। वह चुपचाप बैठी हुई किसी चीज़ को घूर रही थी जबकि बाकी सब बच्चे खेल-कूद रहे थे। तभी उन्होंने सौम्या से बात की तो उसने बताया कि उसे उसके मम्मी-पापा की याद आ रही है। उसे घर जाना है, यहां बिल्कुल भी अच्छा नहीं लगता।

अधिकारी ने लिया सौम्या को घर लाने का फैसला

story of ias radha krishnan who save a gril in tsunami

इसपर अधिकारी ने फैसला लिया कि अब से वे उसकी देखभाल करेंगे। वे सौम्या को अपने घर ले आए। यहां उन्होंने उसकी अच्छे से परवरिश की। उसे पढ़ाया-लिखाया। जानकारी के अनुसार, सौम्यान ने एडीएम कॉलेज से बीए इकॉनॉमिक्स किया।

22 की उम्र में सौम्या ने रचाई शादी

गौरतलब है, अब सौम्या 22 साल की हो चुकी हैं। हाल ही में उन्होंने टेक्निशियन, के.सुभाष संग शादी रचाई है। इस शादी में आईएएस राधाकृष्णन और उनका पूरा परिवार शामिल हुआ। इस दौरान उन्होंने सौम्या को मंगलसूत्र दिया और उसके साथ बिताए हुए सारे पल याद किए।

About Editorial Team

Check Also

1800 करोंड़ की लागत से बनकर तैयार हुआ यदाद्रि मंदिर, दरवाजों पर लगा है 125 किलो से अधिक सोना

साउथ इंडिया के मंदिरों की बात ही निराली होती है। यहां के लोगों में ईश्वर …

Leave a Reply

Your email address will not be published.