Breaking News

इस लड़के ने आईआईटी से मिली नौकरी को ठुकराकर,35 हजार गरीब किसानो का जीवन सुधार दिया,

आज कल लोग पढ़ते हैं और डिग्री हासिल करने के बाद नौकरी करते हैं.ही छात्र chhta है के उसे पढ़ लिखकर की अच्छी नौकरी मिले लेकिन आईआईटी से मास्टर की डिग्री करने के बाद विशाल ने नौकरी करने की बजाय गांव वालों का रास्ता जीवन सुधारने का रास्ता चुना.और आईआईटी के दौरान नौकरी छोड़ आज विशाल 35 हजार से ज्यादा लोगों का जीवन सुधार चुके हैं.

विशाल किसान परिवार से संबध रखते है.

विशालंका जन्म एक साधारण से किसान परिवार से हुआ था.इनके पिता से लेकर दादाजी सब किसानी करते थे.और इनका घर भी खेती के ही पैसे से चलता था.और ऐसे में विशाल के पिता ने विशाल की पढ़ाई के लिए कोई कमी नही की और उनको पढ़ाई लिखाया.विशाल का सपना था की वह आईआईटी में पढ़ाई करे लेकिन 12 वीं की परीक्षा के बाद उन्होंने आईआईटी परीक्षा के लिए 2 बार प्रयास किया लेकिन नामांकन नही हो सका.फिर विशाल ने समय बर्बाद न करते हुए उन्होंने किसी डिग्री कॉलेज से एग्रीकल्चर की पढ़ाई की

आईआईटी खड़गपुर में मिला दाखिला

लेकिन विशाल का आईआईटी में पढ़ने का सपना टूटा नही था.उन्होंने सोच लिया था के उन्हें मस्ती की डिग्री आईआईआईटी से ही करनी है और अपनी डिग्री के पढ़ाई के दौरान विशाल ने गेट की तैयारी की और ग्रेजुएशन करने के बाद उन्होंने पहली बार में ही मास्टर करने के लिए आईआईटी का एग्जाम क्रैक कर लिया और इस परीक्षा में उन्होंने अच्छे अंक प्राप्त किए और उन्हें आईआईटी खड़गपुर में दाखिला मिला.इस दौरान विशाल ने फूड प्रोसेसिंग की पढ़ाई को पूरा किया.अपनी पढाई के दौरान विशाल ने कुछ अहम बाते सिख.विशाल ने सोचा की अगर किसानों का सही तरीके से मार्गदर्शन हो तो किसानों की गरीबी दूर की जा सकती है.

आदिवासियों की बदल दी जिंदगी

बता दें की जब विशाल आईआईटी खड़गपुर में पढ़ते थे.इस दौरान वहां गांव में रिसर्च के लिए जाया करते थे.लेकिन जब विशाल ने किसानों की हालत देखी तो उन्होंने किसान के बारे में कुछ करना चाहा.विशाल ने आदिवासियों को खेतीबके लिए जागरूक किया .क्योंकि आदिवासी के पास जमीन होते हुए भी वह सिर्फ जानवरों के शिकार पर ही निर्भर रहते थे.और दारू पीकर घर में सोए रहते थे.लेकिन विशाल ने इन्हे इंटीग्रेटेड फार्मिंग मॉडल से। जोड़ा और तलब बनवाए और मछली पालन की ट्रेनिंग दी .लेमन ग्रास की खेती करवाई.और अब यह किसान 2 से 3 लाख रूपया सालाना कमा रहे है.विशाल ने अपनी अच्छी खासी नौकरी छोड़ हजारों आदिवासियों का जीवन में सुधार लाया है.

About Editorial Team

Check Also

दी कश्मीर फाइल्स के साथ साथ बॉलीवुड की यह फिल्में भी इन देशों में कर दी गई बैन, कारण जानकर हैरान हो जाएंगे आप

आज की इस लेख में हम बात करने जा रहे हैं बॉलीवुड इंडस्ट्री की बनी …

Leave a Reply

Your email address will not be published.