Breaking News

बिहार का यह चाय बेचनेवाला करता है हर दिन 20 से 25 लोगों की मदद, गरीबों का भरता है पेट

बिहार के चाय बेचने वाले एक शख्स ने एक बार फिर से साबित कर दिया की आप किसी को सहायता करना चाहते हैं तो जरूरी नही की आपकी पॉकेट पैसे से भरी हो .आप खाली जेब भी किसी की मदद कर सकते हैं. बस आपका दिल बड़ा होना चाहिए.बिहार के एक चाय बेचने वाले शख्स ने ये कथन को फिर से एक बार साबित कर दिखाया है.बता दें की यह शक्स अपने जीवन में खुद पेट पालने के लिए संघर्ष करता है.लेकिन इसके बावजूद भी वह गरीब बेसहारा लोगों की मदद करता है.

चाय बेचकर करता है गरीबों की मदद

बता दें के बिहार के गया जिले के रहने वाले इस शख्स का नाम संजय चंद्रवंशी है.जो चाय बेचकर बेसहारा लोगों को मदद करता हुआ हर रोज सूरज की किरण उगने से पहले सेवा। में जुट जाता है.संजय का मानना है की लोगों को सेवा करना सबसे बड़ा पुण्य का कार्य है.संजय गया शहर ने स्तिथ गौतम बुध मार्ग पर रोज अपना चाय का ठेला लगाते है.और दिन भर चाय सत्तू जूस बेचने के बाद जो कमाई करते हैं उससे गरीबों का भी ध्यान रखते हैं.

यहां पर ही प्रकार के गरीब लोग को उनका पेट भरने के लिए खर्च कर देते हैं.कहते है आपके संस्कार आपको अपने घरवाले से ही मिलता है.और संजय को यह अच्छा काम करने का श्रेय उनके पिता को जाता है.उनके पिता का नाम वानवारी राम था .और संजय को यह दानशीलता अपने पिता जी को देखकर आई बता जात है की उनके दीदाजी भी दानशीलता में कहीं आगे थे.

घरवालों से मिले संस्कार

मीडिया से बात करते हुए सुनाया ने बताया की गरीबों की सहायता करने का काम मेरे दादाजी के ज़माने से चलता आ रहा है. वहीं मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार संजय का परिवार आजादी के पहले से ही गरीबों की सहायता करता चला आ था है.बताया जाता है की संजय के दाद का गांव यानी इमामगंज प्रखंड के केंदुआ में हैं.और यह एक समय में नक्सलवादी से घिरा हुआ था.लेकिन संजय के दादा को इससे कोई फर्क नही पड़ता था.और वह लोगों को मदद के हमेशा आगे आते थे.अब संजय भी अपने दादा और पिता की राह पर आगे बढ़ रहे हैं.और हर दिन 20 से 25 गरीबों की मदद करते हैं.

गरीबों को खिलाते है सत्तू

बता दें की संजय हर सुबह अपनी चाय की ठेली लगाते है.और उनकी ठेली लगाने से पहले ही गरीब मजदूर बेसहारा लोग इनकी दुकान पर आ जाते हैं.संजय इन्हे सुबह में चाय बिस्कुट खिलाते हैं.और गर्मी के दिनों में संजय दोपहर में 2 2 गिलास सत्तू पिलाते हुए नजर आते है.इसके अलावा ठंड में वह लोगों के लिए लकड़ी जलवाते हैं ताकि गरीब ठंड से बच सके.संजय हर दिन 20से25 गरीब ,पागल ,विकलांगो को खाना खिलाते हैं.संजय का परिवार पिछले कई दशक से गरीबों की मदद करता आ रहा है.

About Editorial Team

Check Also

दी कश्मीर फाइल्स के साथ साथ बॉलीवुड की यह फिल्में भी इन देशों में कर दी गई बैन, कारण जानकर हैरान हो जाएंगे आप

आज की इस लेख में हम बात करने जा रहे हैं बॉलीवुड इंडस्ट्री की बनी …

Leave a Reply

Your email address will not be published.