Breaking News

कभी भारत के लिए हॉकी खेलने वाला यह प्लेयर ,आज फुटपाथ पर सीखाता हैं बच्चों को हॉकी

भारत का राष्ट्रीय खेल कहे जानेवाले हॉकी को लोग बहुत कम ही पसंद करते हैं.यहां पर इस खेल को ज्यादा महत्व नहीं दिया जात है.बता दें की भारत में इंदौर शहर को हॉकी का नर्सरी कहा जाता है.और हॉकी के लिए इंदौर को सबसे अच्छा जगह माना जात है.लेकिन हैरान कर देने वाली बात यह है की जिस शहर को हॉकी का नर्सरी कहा जाता है .वहां आज एक भी हॉकी का ग्राउंड नही है.कभी भारत के लिए हॉकी चुके मीर रंजन नेगी आज इंदौर के किसी ग्राउंड में नही बल्कि फुटपाथ पर बच्चों हॉकी खेलने का गुर सिखाते हैं.बता दें की इंदौर शहर से भारत के लिए कई प्लेयर निकल चुके हैं.और इसी फुटपाथ पर खेलने वाले खिलाड़ी ने भारत का नाम भी रौशन किया है.

पिछले 6 सालों से नही है हॉकी ग्राउंड.

बताया जाता है की आजादी से पहले सन 1940 में यहां पर हॉकी के मैदान की स्थापना की गई थी .लेकिन इंदौर शहर को स्वच्छ बनाने के लिए यह पर नगर निगम ने 80 साल पुराने स्टेडियम को नगर निगम कचड़ा निपटान सयंत्रण बनने का फैसला किया .जिसकी वजह से इंदौर में पिछले 6 सालों से हॉकी का स्टेडियम नही है.और यही वजह है की रंजन नेगी फुटपाथ पर बच्चों को हॉकी सिखाते हैं.मीडिया रिपोर्ट्स के में तो रंजन नेगी यहां पर प्रतिभा को तराश रहे हैं.और शहर में हॉकी मैदान न होने के कारण बच्चे फुटपाथ पर ही अपनी जान जोखिम में डाल कर हॉकी सिखाते हुए नजर आते हैं.

1940 में बना था हॉकी ग्राउंड

बता दें की इंदौर में सन 1940 में हॉकी क्लब की स्थापना की गई थी.और इस शहर ने अंतरराष्ट्रीय लेवल तक के खिलाड़ी दिए बता दें कि वही इस शहर से 1948 में ओलंपिक में भारत को गोल्ड मेडल जीतने वाले खिलाड़ी किशन लाल और टीम के कप्तान शंकर लक्ष्मण जैसे कई दिग्गज खिलाड़ी को इसी शहर ने दिया है. बता दें की साल 2007 में आई चकदे इंडिया फिल्म में शाहरुख ने जो किरदार निभाया था.वह मीर रंजन नेगी ही थे.इन्होंने भारत कि ओर से बहुत सारे मैचों में खेला है .और रिटायर होने के बाद टीम के कोच घोषित किए गए थे.बता दें की अब मीर रंजन नेगी बच्चों को हॉकी खिलाते है .और यह उसकी कोई भी फीस चार्ज में करते हैं.बता दें की मीर रंजन पहले मुंबई में रहा करते थे.लेकिन अब वह मुंबई छोड़ इंदौर रहने लगे और यहां पर बच्चों को हॉकी की ट्रेनिंग देते हैं. मीर रंजन का मानना है की इंदौर को हॉकी का नर्सरी कहा जात है.और इसलिए वह इंदौर शहर के बच्चों को भारत की ओर से खेलते हुए देखना चाहते हैं. वे चाहते हैं की बच्चे देश के लिए ओलंपिक में खेले और मेडल लेकर आएं.

About Editorial Team

Check Also

दी कश्मीर फाइल्स के साथ साथ बॉलीवुड की यह फिल्में भी इन देशों में कर दी गई बैन, कारण जानकर हैरान हो जाएंगे आप

आज की इस लेख में हम बात करने जा रहे हैं बॉलीवुड इंडस्ट्री की बनी …

Leave a Reply

Your email address will not be published.