Breaking News

40 साल पहले आर्थिक सहायता करने वाले शख्स को ढूंढ रहा बेटा, बोला- ‘पिता का कर्ज चुकाउंगा’

‘बाढ़े पूत पिता के धर्मा….’गावों में बोली जाने वाली इस कहावत का अर्थ होता है कि पिता के धर्म और कर्मों का फल पुत्र को मिलता है। उसकी तरक्की होती है। माना जाता है कि संतान में अपने मात-पिता के गुण आते हैं। उसके कर्मों में माता-पिता द्वारा दिए गए संस्कार झलकते हैं।

आज हम आपको एक ऐसे बेटे के विषय में बताने जा रहे हैं जिसने अपने पिता का 40 साल पुराना कर्जा चुकाने के लिए जमीन-आसमान एक कर दिया है। इस बेटे का नाम नज़र है। यह केरल के तिरुवनंतपुरम में रहते हैं। इनके पिता का नाम अब्दुल्ला था जो कि अब इस दुनिया में नहीं हैं।

son searching his father for financial help

नज़र पिछले कुछ महीनों से एक व्यक्ति की तलाश कर रहे हैं जिसने इनके पिता की 40 साल पहले आर्थिक सहायता की थी। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, नज़र जिस शख्स की तलाश में हैं उसका नाम लूसिस है। वह कोल्लम के रहने वाले हैं। उनके भाई का नाम बेबी है। जानकारी के मुताबिक, नज़र लूसिस और उनके भाई बेबी को 20 हज़ार रुपये लौटाना चाहते हैं जो उनके पिता ने इनसे लिए थे।

इसके बारे में बात करते हुए नज़र ने बताया कि साल 1970 में उनके पिता अब्दुल्ला काम की तलाश में अरब के देशों में गए थे। यहां वे कई दिनों तक भटकते रहे लेकिन उन्हें काम नहीं मिला और उनके पास पैसे भी खत्म हो गए। ऐसी परिस्थिति में उनके रुम पार्टनर लूसिस ने अब्दुल्ला की मदद करी। लूसिस ने उन्हें 20 हज़ार रुपये दिए थे। इन पैसों से अब्दुल्ला का खर्च चलता रहा। इस बीच उन्हें एक नौकरी भी मिल गई। हालांकि, काम की वजह से उन्होंने अपना कमरा बदल लिया और धीरे-धीरे उनका संपर्क लूसिस से टूट गया।

साल 1987 में अब्दुल्ला केरल वापस लौट आए। यहां आकर उन्होंने अपना काम शुरु कर दिया। नज़र ने बताया कि पिता ने मौत से पहले एक इच्छा जाहिर की थी। उन्होंने कहा था कि वे लूसिस से मिलकर उनके 20,000 रुपये लौटाना चाहते हैं लेकिन उनकी यह इच्छा पूरी ना हो सकी। 83 की उम्र में उनके पिता अब्दुल्ला का इंतकाल हो गया।

बता दें, पिता की इसी इच्छा को पूरा करने के लिए अब नज़र दिन-रात एक करके लूसिस की तलाश में जुटे हुए हैं। इसके लिए उन्होंने 31 जवनरी को अखबार में भी विज्ञापन दिया था। वहीं, इससे भी जब कुछ हांसिल नहीं हुआ तो उन्होंने सोशल मीडिया का सहारा लिया और अपनी समस्या इंटरनेट पर जाहिर की। गौरतलब है, सोशल मीडिया के माध्यम से 5 लोगों ने नज़र से संपर्क किया है। वे खुद के लूसिस और बेबी होने का दावा कर रहे हैं। नज़र अब पिता के दोस्तों की तस्वीरों और दस्तावेजों के आधार पर शख्स की पुष्टि करेंगे और पैसे लौटाएंगे।

About Editorial Team

Check Also

1800 करोंड़ की लागत से बनकर तैयार हुआ यदाद्रि मंदिर, दरवाजों पर लगा है 125 किलो से अधिक सोना

साउथ इंडिया के मंदिरों की बात ही निराली होती है। यहां के लोगों में ईश्वर …

Leave a Reply

Your email address will not be published.