Breaking News

मंगल पर जीवन की तलाश में वैज्ञानिकों के हाथ लगा 2.1 बिलियन साल पुराना पत्थर

पिछले कई सालों से वैज्ञानिक मंगल गृह पर जीवन की तलाश कर रहे हैं। वे दिन-रात इसी कोशिश में लगे हैं कि कैसे भी करके इस बात का पता लगाया जाए कि आखिर मंगल गृह पर इंसान रह सकते हैं या नहीं।

मंगल पर जीवन?

आपने कई बार सुना होगा कि वैज्ञानिकों ने मंगल पर पानी की तलाश प्रारंभ की, इसके लिए कई मिशन लॉन्च किए गए। हालांकि, मंगल पर जीवन का तो पता नहीं लग सका है लेकिन वैज्ञानिकों के हाथ कुछ ऐसी चीजें लगी हैं जिनको देखकर कई बार दावा किया जाता है कि एक ना एक दिन पृथ्वी के अलावा भी मंगल पर इंसानों का डेरा होगा।

बहरहाल, आज हम आपको ऐसे ही मंगल से जुड़ी रोचक जानकारी देने जा रहे हैं जिसमें वैज्ञानिकों के हाथ एक ऐसी चीज लगी है जिससे मंगल पर जीवन की तलाश एक बार फिर शुरु हो गई है।

पृथ्वी पर मिला अनोखा पत्थर

Scientists find 2 billion year old stone in search of life on Mars

दरअसल, साल 2011 में सहारा रेगिस्तान में वैज्ञानिकों के हाथ एक ऐसा काला पत्थर लगा था जो कि धरती का तो बिल्कुल भी नहीं लग रहा था। उस वक्त भी यह काफी चर्चाओं में था। अब एक बार फिर यह पत्थर सुर्खियों में आ गया है।

2.1 बिलियन साल पुराना पत्थर
मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, वैज्ञानिकों ने इस पत्थर को लेकर अनुमान लगाया है कि यह पृथ्वी के पत्थरों से अलग है। यह मंगल गृह का एक उल्का पिंड है जो आसमान से नीचे गिरा है। वैज्ञानिकों द्वारा की गई रिसर्च के मुताबिक, यह पत्थर 2.1 बिलियन साल पुराना है।

जिरकॉन से बनकर तैयार हुआ पत्थर

वैज्ञानिकों ने दावा किया है कि उन्हें इस पत्थर से जिरकॉन मिला है। बताया जा रहा है कि यह मटीरियल कई अरब सालों में बनकर तैयार होता है। इस चीज़ को लेकर वैज्ञानिक अनुमान लगा रहे हैं कि मंगल गृह अस्तित्व कितना पुराना है।

मंगल पर अरबों साल पहले जीवन था

गौरतलब है, इससे पहले वैज्ञानिकों ने दावा किया था कि आज से 4.2 बिलियन साल पहले मंगल गृह पर जीवन था। हालांकि, इसको लेकर कोई सबूत नहीं जुटाए जा सके हैं। अभी तक यह सिर्फ मिथ्या ही है।

About Editorial Team

Check Also

1800 करोंड़ की लागत से बनकर तैयार हुआ यदाद्रि मंदिर, दरवाजों पर लगा है 125 किलो से अधिक सोना

साउथ इंडिया के मंदिरों की बात ही निराली होती है। यहां के लोगों में ईश्वर …

Leave a Reply

Your email address will not be published.