Breaking News

भारत का वह नाई जिसके पास है 400 से भी अधिक लग्जरी गाड़ियां,जीते हैं आलीशान जिंदगी,

कहते हैं हिम्मत करने वालों की हार नहीं होती और अगर इंसान दृढ़ संकल्प कर ले उसके जीवन में सब कुछ आसान हो जाता है और आज हम जिस व्यक्ति कहानी बताने जा रहे हैं वह महज एक नाई का काम करता है लेकिन इसके पास 400 लग्जरी गाड़ियां हैं और यह एक आलीशान जिंदगी गुजारते हैं. बता दें कि रमेश ने अभी जिंदगी में काफी मेहनत की है और उन्होंने फुटपाथ पर लोगों को जिंदगी को जानते हुए देखा है. और कुछ इसी प्रकार की कहानी रमेश बाबू की है .लेकिन आज वह भारत के करोड़ पति में गिने जाते हैं. क्या है रमेश बाबू की कहानी आइए समझते हैं इस लेख में

रमेश बाबू की कहानी

बेंगलुरु में जन्मे रमेश बाबू के पिता एक दुकान चलाया करते थे और जब रमेश महज 7 साल के थे तो उनके पिता मैं इस दुनिया को अलविदा कह दिया था. पिता जब इस दुनिया से गए तो उन्होंने अपने तीन बच्चों के साथ एक दुकान छोड़ कर चले गए रमेश की मां काम किया करती थी. और वह दिन का 40 50 रुपए कमाती थी. और इस कमाई में ही है रमेश का घर चलता था और उनकी पढ़ाई लिखाई चलती थी. बता दें कि रमेश के पिता की मौत के बाद उनकी मां दुकान नहीं चला पाए और महज दिन के 5 रूपया पर दुकान को किराए पर लगा दिया. अपने परिवार को चलाने के लिए रमेश छोटे-मोटे काम किया करते थे.और उन्होंने जैसे-तैसे अपनी पढ़ाई दसवीं तक पूरी की.

रमेश ने किया दुकान चलाने का फैसला

रमेश बाबू छोटा मोटा काम किया करते थे .लेकिन इस छोटे-मोटे काम से उनके परिवार का गुजारा नहीं हो पाता था. फिर उन्होंने अपने पिता की दुकान चलाने का फैसला किया और कुछ दिनों में या दुकान चल पड़ी. रमेश इस दुकान में नाई का काम किया करते थे. और साल 1993 में कुछ पैसे जोड़ कर और उन्होंने अपने अंकल की मदद से एक मारुति वैन खरीदी लेकिन रमेश को अपनी दुकान से फुरसत नहीं मिलने के कारण उन्होंने अपनी गाड़ी को किराए पर लगाने का फैसला किया और रमेश की जिंदगी यहां से चल पड़ी.

रमेश को मिला पहला कॉन्टैक्ट

बता दें कि रमेश की मां जिस परिवार में काम करती थी वहां से उन्हें काफी मदद मिली और रमेश को पहली बार इंटेल कंपनी से गाड़ी का कॉन्ट्रैक्ट मिला .तब रमेश ने सोचा कि इस व्यापार में वह आगे बढ़ सकते हैं और मौत मुनाफा कमा सकते हैं .और साल 2004 में उन्होंने और 38 लाख रूपए की मर्सिडीज कार खरीदी. और वह गाड़ियों को रेंट पर देने लगे और इस कमाई में उन्हें काफी मुनाफा हुआ. और रमेश ने फिर बीएमडब्ल्यू और अन्य लग्जरी कारें खरीदी. रमेश के पास आज 400 से भी ज्यादा गाड़ियां हैं. और इनका बिजनेस भारत के कई राज्यों में चलता है बता दें कि रमेश आज भी नाई का काम किया करते हैं. रमेश टूर एंड ट्रेवल्स के मालिक रमेश आज भी अपने सलून में 4 से 5 घंटे काम किया करते हैं. रमेश आज किसी प्रेरणा से कम नहीं है. उन्होंने जिंदगी कैसे की जाती है यह सब को भली भांति बता दिया.

About Editorial Team

Check Also

दी कश्मीर फाइल्स के साथ साथ बॉलीवुड की यह फिल्में भी इन देशों में कर दी गई बैन, कारण जानकर हैरान हो जाएंगे आप

आज की इस लेख में हम बात करने जा रहे हैं बॉलीवुड इंडस्ट्री की बनी …

Leave a Reply

Your email address will not be published.