Breaking News

अब बाज़ार में मिलेगी फिल्म ‘पुष्पा’ पर आधारित प्रिंटेड साड़ियां, देखें झलक

साउथ इंडियन फिल्म इंडस्ट्री के दिग्गज अभिनेता अल्लु अर्जुन की सुपरहिट फिल्म पुष्पा का जादू लोगों के सिर से उतरने का नाम नहीं ले रहा है। इस फिल्म से लोग इतना प्रभावित हुए हैं कि आलम यह हो गया है कोई अपनी शादी में पुष्पा बनकर वरमाला के टाइम पर झुकने से इनकार कर देता है तो कोई पुष्पा की तरह लाल चंदन की लकड़ी चुराकर अमीर बनने के सपने देख रहा है।

ऐसे में अब महिलाओं के लिए एक साड़ी व्यापारी ने फिल्म पुष्पा पर आधारित प्रिंटेड साड़ी लॉन्च की है। इस साड़ी पर फिल्म के हीरो अल्लु अर्जुन और रश्मिका मंदाना की तस्वीरों को उकेरा गया है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, गुजरात के सूरत स्थित चरंजीत क्रिएशन नामक दुकान में इस तरह की साड़ियां पाई जाती हैं। दुकान के मालिक चरणपाल सिंह ने पुष्पा के बढ़ते क्रेज़ को ध्यान में रखते हुए इस तरह की साड़ी बनाई है। उन्होंने बताया कि फ़िल्म की दिनों-दिन बढ़ती पॉपुलैरिटी को देखकर उन्हें आइडिया आया कि क्यों ना ऐसी साड़ी तैयार की जाए जिसपर फिल्म के सीन प्रिंटेड हों।

सोशल मीडिया पर वायर हुईं तस्वीरें

बता दें, इस साड़ी को आया. सिंह ने तैयार करवाया। उन्होंने सबसे पहले इसके कुछ सैम्पल बनवाए और उन्हें सोशल मीडिया पर शेयर किया। कुछ ही समय में उनके द्वारा अलोड की गई फोटोजड वायरल हो गईं और लोगों ने उनसे इस तरह की साड़ी की डिमांड शुरु कर दी।

दुकान के मालिक चरणपाल सिंह ने इस साड़ी के विषय में बात करते हुए बताया कि फिल्म पुष्पा पर आधारित इन साड़ियों की सबसे अधिक डिमांड राजस्थान, महाराष्ट्र, उत्तर प्रदेश और छत्तीसगढ़ से आ रही है।

दिसंबर में आएगा पुष्पा का दूसरा पार्ट

गौरतलब है, दिसंबर 2022 में पुष्पा: द राइज का दूसरा पार्ट दिसंबर 2022 में रिलीज़ किया जाएगा। इस बात की घोषाणा फिल्म के मेकर्स ने कर दी है। जिसके बाद अब लोगों की एक्साइटमेंट और बढ़ गई है। फिल्म अभिनेता अल्लू अर्जुन ने एक प्रेस कॉन्फ़्रेंस के दौरान कहा था कि पुष्पा का दूसरा भाग बहुत सारी भारतीय भाषाओं में रिलीज़ किया जाएगा। उन्होंने दावा किया था कि आज से पहले एकसाथ इतनी सारी भाषाओं में कोई फ़िल्म रिलीज़ नहीं की गई है।

About Editorial Team

Check Also

1800 करोंड़ की लागत से बनकर तैयार हुआ यदाद्रि मंदिर, दरवाजों पर लगा है 125 किलो से अधिक सोना

साउथ इंडिया के मंदिरों की बात ही निराली होती है। यहां के लोगों में ईश्वर …

Leave a Reply

Your email address will not be published.