Breaking News

महाराणा प्रताप के चेतक से कम नहीं है ये घोड़ा, प्रेजिडेंट्स बॉडीगार्ड चार्जर से नवाज़ा गया

भारत के इतिहास की समृद्धि इस बात से ही पता चल जाती है कि यहां इंसानों के अलावा जानवरों ने भी अपनी वीरगाथाएं खुद लिखी हैं। फिर चाहें वो महाराणा प्रताप का चेतक रहा हो या फिर रानी लक्ष्मीबाई का पवन। आज हम आपको ऐसे ही एक घोड़े के विषय में बताने जा रहे हैं जो पिछले 13 सालों से देश को अपनी सेवाएं दे रहा है।

इसका नाम विराट है। बीते 13 वर्षों से यह घोड़ा राष्ट्रपति के अंगरक्षक परिवार में शामिल है। अब इसकी स्वामिभक्ति और कर्तव्यनिष्ठा को देखते हुए इसे प्रेजिडेंट्स बॉडीगार्ड के चार्जर के रूप में सम्मानित किया गया है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, 2003 में हेमपुर स्थित रिमाउंट ट्रेनिंग स्कूल से विराट नाम के इस घोड़े को राष्ट्रपति के अंगरक्षक परिवार में शामिल किया गया था। यह घोड़ा होनोवेरियन नस्ल का है। इसकी कदकाठी लोगों को अपनी तरफ आकर्षित करती है।

मालूम हो, इससे पहले विराट नाम के इस घोड़े को राष्ट्रपति के साथ बीटिंग दा रीट्रीट सेरेमनी में देखा जा चुका है। इसके अलावा वह तमाम देशों से भारत आए राष्ट्राध्यक्षों के स्वागत कार्यक्रम में भी शामिल हो चुका है। जानकारी के अनुसार, विराट को उसकी योग्यता और कर्तव्यनिष्ठता के लिए चीफ ऑफ आर्मी स्टाफ कमंडेशन कार्ड से भी सम्मानित किया जा चुका है।

बता दें, विराट को जिस सम्मान से नवाज़ा गया है वह हर घोड़े को नहीं दिया जाता है। इसके कई पैरामीटर्स होते हैं जिनपर खरा उतरने के बाद प्रेजिडेंट्स बॉडीगार्ड के चार्जर के रुप में सम्मानित किया जाता है। कुछ चुनिंदा घोड़ों की सूची में अब विराट का नाम भी शामिल हो गया है। गौरतलब है, गणतंत्र दिवस के मौके पर जब राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद राजपथ पर पहुंचे थे उस दौरान विराट को देखा गया था। राष्ट्रपति की अगुवाई के लिए अंगरक्षक मौजूद थे जो कि शानदार कदकाठी के घोड़ों पर सवार थे। इन्हीं में से एक था विराट। जिसे पिछले ही दिन प्रेजिडेंट्स बॉडीगार्ड के चार्जर के रुप में सम्मानित किया गया है।

About Editorial Team

Check Also

दी कश्मीर फाइल्स के साथ साथ बॉलीवुड की यह फिल्में भी इन देशों में कर दी गई बैन, कारण जानकर हैरान हो जाएंगे आप

आज की इस लेख में हम बात करने जा रहे हैं बॉलीवुड इंडस्ट्री की बनी …

Leave a Reply

Your email address will not be published.