Breaking News

8वीं क्लास की इस बच्ची की हैंडराइटिंग के आगे कंप्यूटर भी फेल, देखें तस्वीरें

कहते हैं कि किसी व्यक्ति के चरित्र का प्रमाण चाहिए तो उसकी लेखनी पर गौर फरमाइये खुद पर खुद सारी सच्चाई सामने आ जाएगी। यही कारण है कि लोग अपनी हैंडराइटिंग को सुधारने के लिए बचपन से ही प्रयास में जुट जाते हैं। हालांकि, हर किसी की लेखनी सुंदर हो जाए ये संभव कैसे हो सकता है।

माना जाता है कि दुनिया में बहुत कम लोग ही होते हैं जिनकी हैंड राइटिंग बिल्कुल पर्फेक्ट होती है। जबकि कुछ लोगों को लेकर तो यह धारणा ही बन चुकी है कि इनकी राइटिंग को निश्चित ही खराब होगी। जी हां, चिकित्सकों को लेकर अक्सर आपने लोगों को कहते सुना होगा कि उनकी हैंड राइटिंग बढ़ पाना मुश्किल है। कहा जाता है कि डॉक्टर्स द्वारा लिखा गया दवाइयों का प्रिस्क्रिप्शन सिर्फ एक डॉक्टर या फिर मेडिकल शॉप पर बैठने वाले व्यक्ति ही पढ़ पाते हैं। कहीं ना कहीं लोगों की इस बात में सच्चाई होती है।

आज हम आपको एक ऐसी बच्ची के विषय में बताने जा रहे हैं जिसकी हैंडराइटिंग के चर्चे इन दिनों काफी मशहूर हैं। जिस बच्ची की हम बात कर रहे हैं उसका नाम प्रकृति मल्ला है। वे नेपाल की रहने वाली हैं। इस वक्त प्रकृति आठवीं कक्षा की छात्र हैं। उनको लेकर एक बात काफी मशहूर है कि उनकी हैंडराइटिंगके आगे कंप्यूटर भी शर्मा जाए।

जी हां, इन दिनों प्रकृति द्वारा लिखी गई कॉपी की तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल हो रही हैं। इन फोटोज़ में जो हैंडराइटिंग लिखी है उसे देखकर लगता है कि इस पर लिखे शब्दों को पहले कंप्यूटर पर लिखा गया है उसके बाद उसका प्रिंट निकाला गया है। जबकि ऐसा कतई नहीं है, यह कॉपी 8वीं कक्षा की मासूम छात्रा की है। इस कॉपी पर दिखने वाली लिखावट प्रकृति मल्ला की है। उनकी इस हैंडराइटिंग के लिए उन्हें सरकार के द्वारा पुरुस्कृत किया जा चुका है। अब चारों तरफ उनकी लेखनी की चर्चा हो रही है।

गौरतलब है, प्रकृति की हैंडराइटिंग को लेकर उनके सगे-संबंधियों ने मीडिया से बातचीत के दौरान खुलासा किया कि वे रोज़ाना दो घंटे अपनी लेखनी को सुधारने के लिए प्रैक्टिस करती हैं। शुरुआत से ही उन्हें ऐसा करना अच्छा लगता है जिसकी वजह से अब उनकी राइटिंग बहुत ही खूबसूरत हो गई है। मालूम हो, अच्छी हैंडराइटिंग का सबसे बड़ा फायदा छात्रों को होता है। जब किसी छात्र के मार्क्स कम आते हैं तो टीचर्स उसकी अच्छी राइटिंग के बदले स्टेप मार्किंग करते हैं और उसे पासे कर देते हैं।

About Editorial Team

Check Also

1800 करोंड़ की लागत से बनकर तैयार हुआ यदाद्रि मंदिर, दरवाजों पर लगा है 125 किलो से अधिक सोना

साउथ इंडिया के मंदिरों की बात ही निराली होती है। यहां के लोगों में ईश्वर …

Leave a Reply

Your email address will not be published.