Breaking News

मौत के बाद अपने रिश्तेदारों की लाशों को खाते हैं यहां के लोग , जानकर हो जायेंगे हैरान

दुनिया में आज भी ऐसी ऐसी परंपरा है जिसे सुनने के बाद हम सोच में पड़ जाते हैं.विश्व भर में अनेक प्रकार की जनजाति पाई जाती है.और सब जनजाति के अलग अलग रिवाज पाए जाते हैं.ऐसे में कुछ रीति रिवाजों की हमे जानकारी होती है.और कुछ की जानकारी से हम अनजान रहते है.लेकिन जब हमे कुछ भयावह जानकारी मालूम पड़ती है तो हम दंग रह जाते हैं.और इस जानकारी के बारे में हमे यकीन नही हो पाता है.और दुनिया में अजीबो गरीब प्रथा के लिए जानी जाती है यानोमामी जनजाति.

अपने लोगों की लाश खाती है यह जनजाति

बता दें की यह जनजाति अपने मारे हुए लोगों का मांस खाती है.यह जनजाति साउथ अमेरिका के ब्राजील में रहती है.और अपने हो लोगों का मांस खाने के लिए जाने वाली यह जनजाति साउथ अमेरिका के ब्राजील में काफी चर्चित है.और यह जनजाति एक अजीबो गरीब प्रथा का पालन करती है.इस परंपरा को एंडो-केनिबलवाद कहते हैं.मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार इस जनजाति को यमन और सिनेमा के नाम से भी जाना जाता है.

भयानक होता है अंतिम संस्कार

और आज की इस बढ़ती दुनिया में इस समाज को कोई परभाव नहीं पड़ता है.बताया जाता है कि इस जनजाति को केवल अपनी परंपरा का ध्यान रखना होता है.और इसके आगे यह किसी को भी महत्व नहीं देते हैं.और यह जनजाति सिर्फ अपनी संस्कृति और परम्पराओं को फॉलो करती है.इसके इलावा इस जनजाति को किसी की दखल अंदाजी करना भी पसंद नही है.आपको जानकारी के लिए बता की इस जनजाति में जब कोई मर जाता है तो इसके शाह के साथ अजीबो गरीब प्रथा की जाती है.और इसका अंतिम संस्कार बहुत ही भयंकर होता है.

घर वाले मिलकर खाते हैं लाश

इस जनजाति में किसी के मरने के बाद लोग एक साथ इकट्ठा होकर मारनेवाले की लाश को पूरी तरह जला कर रखते है.और उसके बाद परिवार वाले इस लाश को खाते हैं. खाने से पहले लाश के चेहरे को पैंट कर दिया जाता है.उसके बाद इस लाश को खाया जाता है.और मौत के बाद सभी रिश्तेदार मिलकर अपने अंदाज में गाना गाते है.और अपना दुख परकट करते हैं.

दुनिया में आज भी ऐसी ऐसी परंपरा है जिसे सुनने के बाद हम सोच में पड़ जाते हैं.विश्व भर में अनेक प्रकार की जनजाति पाई जाती है.और सब जनजाति के अलग अलग रिवाज पाए जाते हैं.ऐसे में कुछ रीति रिवाजों की हमे जानकारी होती है.और कुछ की जानकारी से हम अनजान रहते है.लेकिन जब हमे कुछ भयावह जानकारी मालूम पड़ती है तो हम दंग रह जाते हैं.और इस जानकारी के बारे में हमे यकीन नही हो पाता है.और दुनिया में अजीबो गरीब प्रथा के लिए जानी जाती है यानोमामी जनजाति.

अपने लोगों की लाश खाती है यह जनजाति

बता दें की यह जनजाति अपने मारे हुए लोगों का मांस खाती है.यह जनजाति साउथ अमेरिका के ब्राजील में रहती है.और अपने हो लोगों का मांस खाने के लिए जाने वाली यह जनजाति साउथ अमेरिका के ब्राजील में काफी चर्चित है.और यह जनजाति एक अजीबो गरीब प्रथा का पालन करती है.इस परंपरा को एंडो-केनिबलवाद कहते हैं.मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार इस जनजाति को यमन और सिनेमा के नाम से भी जाना जाता है.

भयानक होता है अंतिम संस्कार

और आज की इस बढ़ती दुनिया में इस समाज को कोई परभाव नहीं पड़ता है.बताया जाता है कि इस जनजाति को केवल अपनी परंपरा का ध्यान रखना होता है.और इसके आगे यह किसी को भी महत्व नहीं देते हैं.और यह जनजाति सिर्फ अपनी संस्कृति और परम्पराओं को फॉलो करती है.इसके इलावा इस जनजाति को किसी की दखल अंदाजी करना भी पसंद नही है.आपको जानकारी के लिए बता की इस जनजाति में जब कोई मर जाता है तो इसके शाह के साथ अजीबो गरीब प्रथा की जाती है.और इसका अंतिम संस्कार बहुत ही भयंकर होता है.

घर वाले मिलकर खाते हैं लाश

इस जनजाति में किसी के मरने के बाद लोग एक साथ इकट्ठा होकर मारनेवाले की लाश को पूरी तरह जला कर रखते है.और उसके बाद परिवार वाले इस लाश को खाते हैं. खाने से पहले लाश के चेहरे को पैंट कर दिया जाता है.उसके बाद इस लाश को खाया जाता है.और मौत के बाद सभी रिश्तेदार मिलकर अपने अंदाज में गाना गाते है.और अपना दुख परकट करते हैं.

About Editorial Team

Check Also

दी कश्मीर फाइल्स के साथ साथ बॉलीवुड की यह फिल्में भी इन देशों में कर दी गई बैन, कारण जानकर हैरान हो जाएंगे आप

आज की इस लेख में हम बात करने जा रहे हैं बॉलीवुड इंडस्ट्री की बनी …

Leave a Reply

Your email address will not be published.