Breaking News

बीजेपी की टिकट पर विधायक बनने वाले इस राजनेता को जानते हैं आप?

बीती 10 मार्च को उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के नतीजे घोषित किए गए। इनमें भाजपा ने प्रचंड बहुमत से जीत दर्ज की। बीजेपी ने प्रदेश की कुल 403 सीटों में से 273 सीटें जीतकर सत्ता में वापसी की है। बहुत जल्द सीएम योगी एक बार फिर मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने जा रहे हैं।

सीएम योगी का सत्ता में वापसी करना प्रदेश के हर एक व्यक्ति के लिए गौरव का विषय है। इसकी वजह है उनका व्यवहार। दरअसल, सीएम योगी अपराधियों के साथ वैसा ही व्यवहार करने के लिए मशहूर हैं जैसा कि वे दूसरों के साथ करते हैं। उनकी जीरो टॉलरेंस नीति के प्रति अपराधियों में इतना खौफ है कि वे प्रदेश छोड़कर भागने पर मजबूर हो गए हैं। मुख्यमंत्री के इन्हीं प्रयासों का फल उन्हें सत्ता में वापसी के रुप में मिला है। बात करें, भाजपा की तो यह पार्टी उस कहावत को कतई झूठा साबित करती हैं जिसमें कहा जाता है कि राजा का बेटा ही राजा बनेगा।

बीजेपी में साधारण तबके के व्यक्ति को भी उतना ही सम्मान दिया जाता है जितना कि एक प्रदेश के मुख्यमंत्री को। इसका प्रबल उदाहरण एक सफाईकर्मी है जो आज विधायक बन गया है।

बता दें, संतकबीरनगर की धनघट विधानसभा सीट से बीजेपी की टिकट पर चुनाव लड़कर विधायक बने इस सफाईकर्मी का नाम गणेश चंद्र है। उन्होंने सपा-सुभसपा के प्रत्याशी को 10 हजार से अधिक वोटों से हराया है।

पीएम से प्रभावित हुए गणेश

गणेश चंद्र प्रधानमंत्री मोदी के जीवन से काफी प्रभावित हुए थे। साल 2014 में जब नरेंद्र मोदी देश के प्रधानमंत्री बने तो उन्होंने देखा कि जब एक साधारण सा चायवाला गुजरात का सीएम बन सकता है, बाद में वह इतने बड़े देश का पीएम बन सकता है तो उनके जैसा साधारण सा सफाईकर्मी समाजसेवा करके अपनी विधानसभा का विधायक तो बन ही सकता है।
हालांकि, गणेश पहले से ही राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से जुड़े हुए थे तो तो उनके अंदर देश प्रेम की भावना पहले से ही विद्यमान थी। बाद में उनकी मुलाकात पतजीत गांव निवासी फतेह बहादुर सिंह से हुई। कहा जाता है कि फतेह बहादुर सिंह ही गणेश के राजनीतिक गुरु बने। उन्होंने गणेश को राजनीति के मार्ग प्रशस्त किया।

पत्नी को लड़वाया जिला पंचायत का चुनाव

उनके सहयोग से साल 2020 में गणेश ने अपनी पत्नी कालिंदी देवी चौहान को संठी से जिला पंचायत का चुनाव लड़वाया वे जीत गईं। साल 2021 में उन्होंने एक बार फिर अपनी पत्नी को चुनाव लड़वाया लेकिन वे हार गईं। लेकिन गणेश ने हार नहीं मानी।

साल 2022 के चुनावों में भाजपा नेतृत्व ने उन्हें धनघट विधानसभा सीट से उम्मीदवार बनाया। गणेश ने बीजेपी की टिकट से भारी बहुमत से जीत दर्ज की। उन्होंने दिखा दिया कि एक साधारण व्यक्ति भी देशप्रेम की भावना लेकर राजनीति के माध्यम से बदलाव ला सकता है।

About Editorial Team

Check Also

दी कश्मीर फाइल्स के साथ साथ बॉलीवुड की यह फिल्में भी इन देशों में कर दी गई बैन, कारण जानकर हैरान हो जाएंगे आप

आज की इस लेख में हम बात करने जा रहे हैं बॉलीवुड इंडस्ट्री की बनी …

Leave a Reply

Your email address will not be published.