Breaking News

10 साल के इस बच्चे की भूख मिटाना है नामुमकिन, जितना खाए पड़ जाता है कम

आपने अक्सर देखा होगा कि कुछ लोग दिनभर खाने के विषय में सोंचते रहते हैं। उन्हें हमेशा यही लगता है कि वे कुछ न कुछ खाते ही रहें। लेकिन क्या आपको पता है कि दिन में बार-बार खाना एक गंभीर बीमारी का संकेत हो सकता है। आज हम आपको एक ऐसे बच्चे के विषय में बताने जा रहे हैं जिसको दिन में कई बार भूंख लगती है। उसे चाहें जितना खाना खिला दिया जाए लेकिन कबी उसका पेट नहीं भरता।

10 साल के बच्चे ने खाने में बड़ों को पछाड़ा

बता दें, इस बच्चे का नाम डेविड सू है। इसकी उम्र महज़ 10 साल है लेकिन यह खाना किसी वयस्क इंसान से भी अधिक मात्रा में खाता है। कई बार इसके माता-पिता इसकी फरमाइशों को पूरा करते-करते परेशान हो जाते हैं लेकिन ये है कि मानता ही नहीं है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, डेविड जन्म से प्रेडर विली सिंड्रोम नामक बीमारी से ग्रसित है। यह एक तरह से जेनेटिक डिसॉर्डर है जिसका अभी तक कोई इलाज नहीं मिल सका है। बताया जाता है कि डेविड रोज़ खाना खाता है लेकिन उसे महसूस होता है कि उसने कुछ नहीं खाया है। जिसके बाद वह सारा टाइम अपनी मां से खाने की जिद करता है।

बीमारी से ग्रसित इंसान करता है अजीब हरकतें

रिपोर्ट्स के मुताबिक, इस बीमारी से ग्रसित इंसान पर ध्यान देने की बहुत आवश्यकता होती है। भूंख की तड़प में इंसान खुद को मारने लगता है, वह खाने की तलाश में कूड़ा-करकट भी खा सकता है। डॉक्टरों के मुताबिक, प्रेडर विली सिंड्रोम की वजह से मॉर्बिड ओबेसिटी भी हो सकती है। इससे मरीज़ की आंतों में छेद हो सकता है।

बताया जाता है कि इस बीमारी से ग्रसित मरीज भूंख की तड़प में अपने सोंचने और समझने की शक्ति खो देता है जिसकी वजह से वो पास पड़ी कुछ भी चीज़ खाने लगता है। इतना ही नहीं अगर उसे खाना नहीं दिया जाता है तो वह खाने को चोरी करके खाने लगता है।

भूंख पर कंट्रोल के लिए परिवार करता है उपाय

गौरतलब है, डेविड का परिवार उसकी भूंख को कंट्रोल करने के लिए तरह-तरह के उपाय करता है। जानकारी के मुताबिक वे रसोई घर बंद रखना, खाने का शेड्यूल तैयार करना आदि उपायों की मदद से डेविड की ज्यादा खाने की आदत को सुधारने का प्रयत्न करते हैं।

About Editorial Team

Check Also

1800 करोंड़ की लागत से बनकर तैयार हुआ यदाद्रि मंदिर, दरवाजों पर लगा है 125 किलो से अधिक सोना

साउथ इंडिया के मंदिरों की बात ही निराली होती है। यहां के लोगों में ईश्वर …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *