Breaking News

धोखाधड़ी में संलिप्त लोगों को क्यों बोलते हैं 420? रोचक है इसके पीछे की वजह

आपने अक्सर सुना होगा कि आम बोल-चाल की भाषा में लोग एक-दूसरे को 420 कहकर पुकारते हैं। कई बार जब कोई व्यक्ति हमारे साथा जालसाज़ी करता है या हमें धोखा देने की कोशिश करता है तो उसे हम 420 कहकर पुकारते हैं।
लेकिन क्या आप जानते हैं कि इस 420 शब्द का सही उपयोग कहां किया जाता है? इसका क्या अर्थ होता है?

420 का क्या अर्थ होता है?

आज हम आपको बताएंगे कि इस 420 शब्द का क्या अर्थ होता है। दरअसल, भारतीय दंड सहिंता यानी की इंडियन पीनल कोड (आईपीसी) के तहत संविधान में अपराधों को कई श्रेणियों में बांटा गया है। इनमें चोरी, डकैती, लूट-पाट, मर्डर आदि सब शामिल होती हैं।

इन अपराधों के लिए संविधान में इन्हें तमाम धाराओं के तहत केस दर्ज किया जाता है। जैसे कि मर्डर के लिए पुलिस 302 के तहत आरोपी के खिलाफ मुकदमा दर्ज करती है। वहीं, अगर कोई व्यक्ति हत्या का प्रयास करने की कोशिश करता है ऐसे में उसके खिलाफ धारा 307 के तहत मुकदमा दायर किया जाता है।

धोखाधड़ी करने वालों के खिलाफ दर्ज होता है मुकदमा

इन्हीं धाराओं में एक धारा होती है 420 जिसे धोखाधड़ी करने वालों के विरुद्ध इस्तेमाल किया जाता है। भारतीय दंड संहिता के अनुसार, यदि कोई व्यक्ति किसी दूसरे व्यक्ति के साथ धोखाधड़ी, लूट-पाट, जाल-साज़ी आदि करके उसे नुकसान पहुंचाता है तो आरोपी के खिलाफ धारा 420 के तहत मुकदमा दर्ज किया जाता है।

सात साल की सज़ा

गौरतलब है, इस धारा के तहत मुकदमा दर्ज होने पर थाने से जेल भी नहीं होती है। इसकी सुनवाई जिला मजिस्ट्रेट की कोर्ट में होती है जिसमें तय किया जाता है कि आरोपी को जमानत दी जानी चाहिए या नहीं। इसके अलावा धारा 420 के तहत दोषी पाए जाने पर सात साल से अधिक की सज़ा और आर्थिक दंड भुगतना पड़ता है।

About Editorial Team

Check Also

दी कश्मीर फाइल्स के साथ साथ बॉलीवुड की यह फिल्में भी इन देशों में कर दी गई बैन, कारण जानकर हैरान हो जाएंगे आप

आज की इस लेख में हम बात करने जा रहे हैं बॉलीवुड इंडस्ट्री की बनी …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *