Breaking News

100 रुपये से शुरु किया स्टार्टअप, आज बन गया अच्छा खासा बिजनेस, जानिये इलावरासी की कहानी

‘कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती…’। इस कहावत को सार्थक करके दिखाया है तमिलनाडु की इलावरासी ने। 45 वर्ष की इस महिला ने वो करके दिखाया है जिसके विषय में सोंचते तो बहुत लोग हैं लेकिन करने से कतराते हैं। कई बार हमारे दिमाग में बिजनेस के आइडिया तो आते हैं लेकिन हमारा डर हमें आगे नहीं बढ़ने देता। हमारे मन में अक्सर यह ख्याल आते रहते हैं कि अगर कहीं नुकसान हो गया तो क्या करेंगे।

इस डर से वे सारी उम्र दूसरों की नौकरी करते रहते हैं। आज हम आपको एक ऐसी महिला के विषय में बताने जा रहे हैं जिसने अपने डर से आगे हमेशा अपने सपनों को रखा। उसने अपनी मेहनत के दमपर आज बहुत बड़ा बिजनेस सेट कर लिया है।

बता दें, तमिलनाडु की इलावरासी जयकांत बचपन से ही मिठाई और नमकीन का व्यापार करती थीं। वे दुकानों और घरों में जाकर मिठाई और नमकीन बेंचती थी। उनके प्रोडक्ट्स ग्राहकों को कापी पसंद भी आते थे। जिसकी वजह से उन्हें अच्छे खासे ऑर्डर मिल जाते थे और उनकी अच्छी कमाई हो जाती थी। उनका सपना था कि वे एक दिन बहुत बड़ी बिजनेस वुमेन बनें।

कुछ सालों बाद नकी शादी हो गई लेकिन उन्होंने अपना यह बिजनेस बंद नहीं किया। वे पहले घर का काम करती फिर अपने ऑर्डर्स पूरे करतीं। देखते ही देखते उनकी शादी को 15 साल बीत गए। उनके बच्चे बड़े हो गए।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, एक दिन इलावरासी ने अपने पति और बच्चों से अपने सपने के विषय में बात की। उन्होंने बताया कि वे अपना खुद सुपरमार्केट खोलना चाहती हैं जिसमें वे ये सारे प्रोडक्ट्स रखेंगी।

इसपर उनके पति ने सवाल किया कि सुपरमार्केट खोलने के लिए पैसा कहां से आएगा? इलावरासी ने जवाब दिया कि वे बैंक से 50 लाख का लोन लेंगी। पहले तो उनके पति ने इस बात पर आनाकानी की लेकिन पत्नी के मनाने पर मान गए। दोनों ने बैंक से 50 लाख का लोन लिया और त्रिशूर में एक सुपरमार्केट खोल दिया।

इसमें उन्होंने हलवा, चिप्स, और केक जैसे नमकीन और मिठाइयां रखीं। देखते ही देखते उनका यह बिजनेस बढ़ गया और उनके काफी मुनाफा होने लगा। सबकुछठीक ही चल रहा था कि एक दिन एक हादसे ने सबकुछ बर्बाद कर दिया।

दरअसल, इलावरासी की दुकान में चोरी हो गई जिसमें उनका सारा माल पार कर दिया गया। अब उनके सिर पर बैंक का कर्ज और मार्केट का किराया इतना बढ़ा कि वे सोंच-सोचकर बीमार हो गईँ। जिसकी वजह से उन्हें अस्पलात में भर्ती कराना पड़ा।

ठीक होने के बाद इलावरासी अस्पताल से घर लौंटी। इस हादसे के बावजूद उन्होंने हार नहीं मानी और ठाना कि वे एक और बिजनेस करेंगी। इसके लिए उन्होंने 100 रुपये के साथ, चिप्स और स्नैक्स के कारोबार में फिर से शुरुआत की। उन्होंने त्रिशूर रेलवे स्टेशन पर एक हॉट चिप्स स्टॉल खोला। इसका नाम उन्होंने अवथी हॉट चिप्स रखा। देखते ही देखते उनका यह बिजनेस इतना सक्सेसफुल हुआ कि उन्होंने एक साथ अलग-अलग जगहों पर चार स्टॉल और खोल दिए। इनमें उन्होंने मिठाई, नमकीन, केक और अचार सहित 60 से अधिक प्रोडक्ट रखे। गौरतलब है, 2019 में इलावरासी ने अंतर्राष्ट्रीय शांति परिषद यूएई पुरस्कार भी जीता था।

About Editorial Team

Check Also

1800 करोंड़ की लागत से बनकर तैयार हुआ यदाद्रि मंदिर, दरवाजों पर लगा है 125 किलो से अधिक सोना

साउथ इंडिया के मंदिरों की बात ही निराली होती है। यहां के लोगों में ईश्वर …

Leave a Reply

Your email address will not be published.