Breaking News

भारत का यह गांव जहां लड़कियों के जन्म पर लगाए जाते है 111 पेड़, बाद में लड़किया बांधती है इन पेड़ों को राखी

भारत देश में अनेक गांव हैं और हर गांव की एक अलग पहचान है. लोग भले ही आजकल गांव छोड़कर शहर का रुख कर रहे हैं. क्योंकि वहां पर वह सुविधा नहीं मिल पाती जो उन्हें शहर में मिल जाती है बता दें कि भारत में कैसा गांव है जो सिर्फ भारत में ही नहीं बल्कि विदेशों में भी चर्चा का विषय बना रहता है. इस गांव में लड़कियों के पैदा होने पर 111 पेड़ लगाए जाते हैं और इस गांव की चर्चा पूरे विश्व में होती है.

गांव का नाम पिपलांत्री है.

बता दें इस गांव का नाम अपने आप में एक पहचान रखता है. यह गांव राजस्थान के राजसमंद जिले से महेश 15 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है. और यह गांव अपने आप में एक अलग पहचान रखता है बता दें कि इस गांव के अंदर आपको पेड़ पौधे और अनेक तरह के दृश्य दिखाई देंगे. बता दें कि करीब 6000 की आबादी वाला या गांव मैं जब बेटियां पैदा होती हैं. तो इस गांव में एफडी करा दी जाती है. जिसकी चर्चा विदेशों तक होती है इतना ही नहीं इस गांव में घूमने के लिए विदेशी पर्यटक भी आते रहते हैं और इस गांव का लुत्फ लेते हैं.

बेटियां बंधती है पेड़ो को राखी

बजा देंगे इस गांव का नियम यह है कि जब इस गांव में बेटियां पैदा होती है तो इस गांव में 111 पेड़ लगाए जाते हैं. और जब यह बेटियां बड़ी हो जाती हैं. तो उन्हीं पेड़ों को अपना भाई मान कर राखियां भी बंधती है. और इसके लिए गांव में एक बड़ा समारोह भी होता है. और लड़कियां इस पेड़ को जीवन भर ख्याल रखती हैं. और जब इस गांव में लड़कियों की शादी हो जाती है तो उस पेड़ को भेज दिया जाता है और उसे जो ही पैसे आते हैं उन लड़कियों की शादी में खर्च कर दिए जाते हैं.

बता दें कि इस गांव में लड़कों से ज्यादा लड़कियों को अहमियत दी जाती है. और लड़कियां इस गांव में लड़कों से कई मायने में आगे भी हैं. बता दें कि इस गांव में लड़कियों के पास रोजगार भी है जो खुद में एक आत्मनिर्भरता का संदेश देता है बता दें कि इस गांव में जब किसी ग्रामीण की मृत्यु हो जाती है उसके नाम पर 11 पेड़ लगाए जाते हैं .एक रिपोर्ट के अनुसार इस गांव में अब तक 4 लाख से अधिक पेड़ लगाए जा चुके हैं.

सेलिब्रेटी भी कर चुके हैं सराहना

बता दें कि इससे पहले इस गांव के पूर्व सरपंच श्याम सुंदर ने एक मिसाल कायम की है. लेकिन श्याम सुंदर ने इस गांव के लिए बहुत ही मिसाल कायम की हैं और दूर-दूर के लोग भी इन से सलाह लेने के लिए आते हैं. श्याम सुंदर को अपने गांव को स्वच्छ रखने के लिए उन्हें राष्ट्रपति द्वारा सम्मानित भी किया जा चुका है. वही राजस्थान सरकार ने इस गांव के तर्ज पर 200 गांव को विकसित करने की योजना भी चलाई थी. वही बताते हैं कि भारत के मशहूर शो कौन बनेगा करोड़पति में श्यामसुंदर को देखा जा चुका है. और अमिताभ बच्चन भी की तारीफ करते हुए नजर आए हैं. दर्शन श्याम सुंदर कौन बनेगा करोड़पति का हिस्सा बने थे जहां वह विश्व के मंच पर दिखाई दिए थे. पराजिया गांव दुनिया भर के लोगों के लिए एक मिसाल कायम कर चुका है.

About Editorial Team

Check Also

दी कश्मीर फाइल्स के साथ साथ बॉलीवुड की यह फिल्में भी इन देशों में कर दी गई बैन, कारण जानकर हैरान हो जाएंगे आप

आज की इस लेख में हम बात करने जा रहे हैं बॉलीवुड इंडस्ट्री की बनी …

Leave a Reply

Your email address will not be published.