Breaking News

वैज्ञानिकों का दावा मरते वक्त इंसान जीवन के हसीन लम्हों को करता है याद!

इस बात से तो आप सब वाकिफ ही हैं कि जो इस दुनिया में आया है उसे एक न एक दिन अवश्य जाना है। फर्क बस इतना है कि कोई पहले चला जाता है तो कोई बाद में लेकिन जाना सभी को पड़ता है। आज हम आपको जीवन-मरण से जुड़ी एक विशेष जानकारी देने जा रहे हैं। वैज्ञानिकों ने दावा किया है कि इंसान अपनी मौत से ठीक पहले अपने हसीन और खूबसूरत लम्हों को याद करता है। यह दावा वैज्ञानिकों ने एक 87 साल के बुजुर्ग के दिमाग की रिकॉर्डिंग को लेकर किया है।

मरने से पहले आंखों के सामने घूमता है जीवन

बता दें, इस्टोनिया स्थित टार्टू विश्वविद्यालय के डॉ. राउल विसेंट ने दावा किया है कि मृत्यु से पहले जीवन वास्तव में हमारी आंखों के सामने घूमने लगता है, नज़र आने लगता है। उन्होंने बताया कि एक 87 वर्षीय बुजुर्ग को मिर्गी का दौरा पड़ा था जिसके बाद उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया। इस दौरान न्यूरोसाइंटिस्ट्स ने बुजुर्ग के दिमाग की तरंगों को मापने का फैसला किया। हालांकि, इस दौरान उसे दिल का दौरा पड़ गया जिससे उसकी मौत हो गई। लेकिन शोधकर्ताओं को मरते हुए मानव मस्तिष्क की रिकॉर्डिंग मिल गई।

मरने से पहले और बाद में दिमाग में कंपन

यूनिवर्सिटी ऑफ लुइसविले के न्यूरोसर्जन डॉ. अजमल ज़ेम्मार ने इस विषय में बात करते हुए बताया कि, मौत के करीब 900 सैकेंड तक की दिमाग की सक्रियता को रिकॉर्ड किया गया। ऐसा करते हुए वैज्ञानिकों का विशेष ध्यान इस बात पर था कि दिल की धड़कन बंद होने के 30 सेकेंड पहले और बाद इंसान के मस्तिष्क की क्या स्थिति रहती है। इससे पता चला कि दिल के काम करना बंद होने के तुरंत बाद और पहले उन्होंनें मस्तिष्क में कंपन और विशेष बैंड में बदलाव देखने को मिला।

गामा कंपन

इसके अलावा विशेषज्ञों ने बताया कि इस दौरान 87 वर्षीय बुजुर्ग के दिमाग में गामा कंपन था। ये तरंगें ध्यान लगाने, सपने देखने, ध्यान केंद्रित करने, यादों को सहेजने, सूचना की प्रक्रिया को करने और चेतन बोध जैसे कार्यों को करने के लिए उपयोगी होती हैं।

About Editorial Team

Check Also

1800 करोंड़ की लागत से बनकर तैयार हुआ यदाद्रि मंदिर, दरवाजों पर लगा है 125 किलो से अधिक सोना

साउथ इंडिया के मंदिरों की बात ही निराली होती है। यहां के लोगों में ईश्वर …

Leave a Reply

Your email address will not be published.