Breaking News

इस Hi-Tech जुगाड़ से गाय दे रही 5 लीटर ज्यादा दूध, जानिये कैसे

इस दुनिया में ज्यादातर लोग गाय, भैंस पालते हैं। वे दूध के लिए मार्केट की बजाए इनपर ही निर्भर रहते हैं। जानवरों के मालिक इन्हें अच्छी से अच्छी खुराक देते हैं जिनसे की ये ज्यादा मात्रा में दूध दे सकें. आज हम आपको एक किसान के ऐसे कारनामे के विषय में बताने जा रहे हैं जिसने अपनी गायों पर ऐसी टेक्नोलॉजी का प्रयोग किया जिससे कि वे 22 लीटर से 27 लीटर तक दूध देने लगी।

बता दें, यह अजीबो-गरीब मामला तुर्की के अक्साराय शहर का है। यहां के निवासी इज्जत कोकाक ने अपनी गायों को वर्चुअल रियलिटी गोगल्स पहनाए हैं। इस चश्मे के इस्तेमाल से वे गायों से 5 लीटर दूध एक्स्ट्रा निकाल पाते हैं। मालूम हो, यह वर्चुअल चश्मा गायों को खूंटे से बंधे होने के बावजूद ये महसूस कराता है कि वे गर्मियों के मौसम में बाहर खुले मैदान में चारा चार रही हैं। इस आभास के कारण वे खुश होती हैं और दूध ज्यादा देती हैं।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, गायों की आंखों पर लगा यह वर्चुअल रियलिटी चश्मा उन्हें खुशनुमा एहसास कराता है कि वे गर्मियों के मौसम में खुले में बाहर घूम रही हैं। इसलिए वे सूरज की रौशनी के नीचे बैठकर उसकी धूप का मज़ा लेती हैं और हरी भरी घास का सेवन करती हैं।

किसान ने अपने इस कारनामे के विषय में जानकारी देते हुए बताया कि उन्हें यह आइडिया एक रिसर्च के विषय में पढ़ने के बाद आया था। इस रिसर्च में दावा किया गया था कि गायो को हरा-भरा दृश्य और प्रकति की आवाजें बहुत अधिक आकर्षित करती हैं, जिससे वे खुश होती हैं और ज्यादा दूध देती हैं। इस रिसर्च को पढ़ने के बाद उन्हें आइडिया आया कि क्यों ना वे भी अपनी गायों पर इसका इस्तेमाल कर सकते हैं।

गौरतलब है, वैसे तो इन चश्मों का निर्माण इंसानों के लिए किया गया था हालांकि क्रॉसनोगोर्स्क फॉर्म पर कार्यरत चिकित्सकों ने इस चश्मे को इस तरह डिजाइन कर दिया कि अब ये जानवर भी पहन सकते हैं। उन्होंने गाय के सिर की नाप के हिसाब से तैयार किया है जिसकी मदद से वे रंग-बिरंगा देख सकती हैं। इस चश्में की खास बात यह है कि इसके रंग की पैलेट में बदलाव कर दिए गए हैं क्योंकि गायें लाल या हरे रंग को देख नहीं सकती हैं।

About Editorial Team

Check Also

1800 करोंड़ की लागत से बनकर तैयार हुआ यदाद्रि मंदिर, दरवाजों पर लगा है 125 किलो से अधिक सोना

साउथ इंडिया के मंदिरों की बात ही निराली होती है। यहां के लोगों में ईश्वर …

Leave a Reply

Your email address will not be published.