Breaking News

जिनको मां-बाप ने ठुकराया उन्होंने अपने हुनर के दमपर पहचान बनाई, जानिये कौन हैं ये ‘एक जिस्म दो जान’

जिसका कोई नहीं उसका खुदा है….इस कहावत में कितनी सच्चाई है इस बात का अंदाजा आपको इस कहानी को पढ़ने के बाद लगेगा। आज हम आपको दो ऐसे भाईयों के विषय में बताने जा रहे हैं जिनको उनकी शारीरिक कमियों के चलते उनके मां-बाप ने भी ठुकरा दिया था। लेकिन आज वे अपने हुनर के दमपर सरकारी नौकरी कर रहे हैं।

कहते हैं इंसान अगर चाहे तो अपनी मेहनत के दमपर सबकुछ हांसिल कर सकता है जो उसके पास नहीं है। यह बात इन दो भाईयों ने साबित करके दिखाई है। इनका नाम सोहना सिंह और मोहना सिंह है। ये दो भाई जुड़वा होने के साथ-साथ आपस में जुड़े हुए भी हैं। पंजाब के अमृतसर में रहने वाले सोहना-मोहना का बचपन कष्टों से गुजरा। उनके जन्म लेते ही उनके मात-पिता ने उनतकी हालत देखकर उन्हें छोड़ दिया था।

पंजाब स्टेट पावर कॉरपोरेशन में कर रहे हैं नौकरी

conjoined twins sohna and mohna singh job punjab goverment amritsar

हालांकि, इन बच्चों की किस्मत ने इन्हें नर्क से स्वर्ग में पहुंचा दिया। आज ये दोनों भाई पंजाब स्टेट पावर कॉरपोरेशन लिमिटेड (पीएसपीसीएल) में नौकरी कर रहे हैं। यहां के अधिकारी ने बताया कि 19 वर्षीय सोहना सिंह को सरकारी नौकरी मिल गई है। इन दोनों ने 20 दिसंबर से काम करना शुरू कर दिया है। सोहना अपने भाई मोहना के साथ पीएसपीसीएल में बिजली के उपकरणों की देखभाल करता है।

बता दें, पंजाब पीएसपीसीएल में इलेक्ट्रीशियन के पद पर तैनात होने के बाद दोनों भाईयों ने पंजाब की चन्नी सरकार को धन्यवाद दिया है। इसके अलावा दोनों भाईयों ने अपनी आपबीती सुनाते हुए बताया कि आज हम जो पढ़-लिख पाए हैं वो पिंगलवाड़ा संस्थान की वजह से मुमकिन हुआ है। उनकी वजह से ही आज हम इस काबिल बन पाए हैं कि सरकार ने हमें नौकरी दी।

मालूम हो, आज से 20 साल पहले जब इन दोनों बच्चों के माता-पिता इन्हें अस्पताल में ही छोड़कर चले गए थे उस वक्त पिंगलावाड़ा संस्थान ने ही इन बच्चों को गोद लिया था। दोनों बच्चों ने अपना पूरा बचपना वहीं गुज़ारा और पढ़ाई पूरी की।

गौरतलब है, पीएसपीसीएल के सबस्टेशन जूनियर इंजीनियर रविंदर कुमार ने सोहना-मोहना की नौकरी के विषय में जानकारी देते हुए बताया कि दोनों यहां बिजली के उपकरणों की देखभाल में मदद करते हैं। पंजाब सरकार ने उन्हें काम पर रखा है। सोहना को काम मिल गया और मोहना उसके साथ मदद करता है। उनके पास कार्य अनुभव भी है।

About Editorial Team

Check Also

1800 करोंड़ की लागत से बनकर तैयार हुआ यदाद्रि मंदिर, दरवाजों पर लगा है 125 किलो से अधिक सोना

साउथ इंडिया के मंदिरों की बात ही निराली होती है। यहां के लोगों में ईश्वर …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *