Breaking News

जानिये बजट 2022 में क्या सस्ता और क्या महंगा किया गया?

मंगलवार को केंद्र की मोदी सरकार द्वारा साल 2022-23 का बजट पेश किया गया। इस बजट को केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने संसद में रखा। इस दौरान केंद्र सरकार के तमाम मंत्रियों ने इस बजट की सराहना की और इसे देश के प्रत्येक वर्ग के लिए लाभकारी बताया।ॉ आज हम आपको इस बजट में क्या चीजें सस्ती हुई हैं और किन चीजों पर महंगाई बढ़ी है बताने जा रहे हैं।

ये होगें सस्ते

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण द्वारा जारी किये गए बजट के मुताबिक, कपडे और चमड़े के प्रोडक्ट्स, विदेश से आई मशीनें, खेती के उपकरण, हीरे के जेवहरात, मोबाइल व चार्जर, जूते-चप्पल, पैकेजिंग के लिए इस्तेमाल होने वाले डिब्बे आदि चीजें सस्ती होंगी।

ये होंगे महंगे

बजट 2022 के मुताबिक, आर्टिफिशियल जेवहरात, कैपिटल गुड्स, इमिटेशन ज्वैलरी, बिना ब्लेंडिंग वाले फ्यूल आदि महंगे होंगे। कयास लगाए जा रहे हैं कि इसकी वजह से देश की जनता को काफी दिक्कतें आने वाली हैं।

कस्टम ड्यूटी

बजट 2022 के तहत सरकार ने जेम्स एंड ज्वैलरी पर कस्टम ड्यूटी के नाम पर लिए जाने वाले टैक्स में कटौती की है। इस बार इसमें 5 प्रतिशत कटौती की गई है। इसके अलावा कट एवं पॉलिश्ड डायमंड पर भी मोदी सरकार ने कस्टम ड्यूटी घटाने का फैसला किया है।

बजट में हुए बड़े ऐलान

केंद्र सरकार की तरफ से जारी किए गए बजट में एमएसएमई के तहत रजिस्टर्ड कंपनियों को अतिरिक्त कर्ज लेने की छूट दी गई है। इसके अलावा देश में डिजिटल यूनिवर्सिटी की स्थापना करने की कोशिश की गई। वहीं, 2023 में 80 लाख बेघरों के लिए घर बनाने का फैसला लिया गया।

मोदी सरकार ने इस वर्ष के बजट में आयकर को लेकर कोई नई घोषणा नहीं की है। इसमें ना तो बढ़ोतरी की बात की गई ना ही घटाने की। वहीं, कॉरपोरेट सैक्टर्स को कुछ ना कुछ राहत प्रदान करने की कोशिश की गई है। जानकारी के मुताबिक, कॉरपोरेट सरचार्ज को 7 प्रतिशत कर दिया गया है जबकि पहले ये 12 प्रतिशत था।

सौर क्षमता को बढ़ाने का लक्ष्य

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बताया कि सरकार ने 2030 तक सौर क्षमता के बढ़ाने का लक्ष्य रखा है। इसके लिए सरकार ने 19,500 करोंड़ रुपये आवंटित करने का फैसला किया है।

क्रिप्टोकरेंसी पर टैक्स

budget 2022 big highlights what became costlier and what will be cheaper

वजट 2022-23 में सबसे बड़ा बदलाव जो हुआ है वो ये है कि अब से क्रिप्टोकरेंसी पर टैक्स लगेगा। क्रिप्टोकरेंसी को टैक्स के दायरे में लाने का प्रयास करते हुए केंद्र सरकार ने घोषणा की है कि वर्जुअल डिजिटल असेट से होने वाली आमदनी पर अब से 30 प्रतिशत टैक्स पड़ेगा।

गौरतलब है, केंद्र सरकार द्वारा जारी किये गए बजट को जहां एक तरफ बीजेपी के नेता पीपुल फ्रेंडली घोषित करने में लगे हुए हैं वहीं विपक्ष इस बजट को आम जनता के लिए बेकार बता रहा है। विपक्ष लगातार आरोप लगा रहा है कि सरकार ने जनसरोकार जैसे मुद्दों पर कोई फैसला ही नहीं लिया।

About Editorial Team

Leave a Reply

Your email address will not be published.