Breaking News

30 साल पहले बाढ़ में डूब गया था गांव, अब आया नज़र, माना जाता है ‘भूतिया गांव’

क्या आपने कभी किसी ऐसे गांव का नाम सुना है जो सालों-साल तक पानी के नीचे दबा रहा हो? या कभी आपने ऐसे किसी गांव के विषय में सुना है जिसे लोग भूतिया गांव मानते हैं? आज हम आपको ऐसे ही एक गांव के विषय में बताने जा रहे हैं जिसे वहां के लोग भूतिया गांव कहकर बुलाते हैं।

30 साल पहले बाढ़ में डूबा गांव

यह गांव स्पेन में स्थित है। बताया जाता है कि ऐसेरेडो नाम का यह गांव आज से 30 साल पहले बाढ़ में पूरी तरह डूब गया था, जिसके बाद यहां रहने वाले लोगों को अन्य जगह पर जाना पड़ा था। उस दौरान इस गांव का जीवन पूरी तरह से अस्त-व्यस्त हो गया था। यही कारण था कि लोग पलायन को मजबूर हो गए थे।

अब जब इस जलाशय का पानी सूख रहा है तब इस गांव के अवशेष निकलकर सामने आ रहे हैं। अंदाजा लगाया जा रहा है कि पानी के नीचे दबे इस गांव में पहले जीवन था। रिपोर्ट्स के मुताबिक, अवशेषों में एक कैफे, घर और एक जंग लगी पुरानी गाड़ी मिली है जिससे यह पूरी तरह साफ हो जाता है कि यहां पहले जनजाति वास करती थी।

ऐसेरेडो नामक इस गांव को लोग भूतिया गांव के नाम से भी जानते हैं। पानी के नीचे दबे होने की वजह से यह पूरी तरह से खंडहर हो चुका है, जिसे देखकर किसी भूतिया स्थान की याद आ जाती है। इसलिए इस गांव को लोग भूतिया गांव कहकर ही बुलाते हैं। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, साल 1992 में इस गांव के रास्ते एक नहर का निर्माण किया जा रहा था। इसको लेकर जब बांध से पानी छोड़ा गया तो लिमिया नदी में बाढ़ आ गई जिससे ऐसेरेडो नामक यह गांव पूरी तरह से पानी में डूब गया।

जलवायु परिवर्तन घातक समस्या

वहीं, एक्सपर्ट्स ने इस क्षेत्र में होने वाले अजीबो-गरीब परिवर्तनों के पीछे जलवायू परिवर्तन को जिम्मेदार ठहराया है। बताया जा रहा है कि स्पेन का 10 प्रतिशत हिस्सा एक लंबे समय तक सूखे की चपेट में आ सकता है। इससे खाद्यान आदि की समस्या उत्पन्न हो सकती है।

शोधार्थियों के मुताबिक, सूखी की असली वजह गर्म जलवायु है। माना जा रहा है कि गर्म जलवायु की वजह से नदी, तालाब, बांध सूखने पर मजबूर हो रहे हैं जिसकी वजह से आने वाले भविष्य में दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है।

About Editorial Team

Check Also

1800 करोंड़ की लागत से बनकर तैयार हुआ यदाद्रि मंदिर, दरवाजों पर लगा है 125 किलो से अधिक सोना

साउथ इंडिया के मंदिरों की बात ही निराली होती है। यहां के लोगों में ईश्वर …

Leave a Reply

Your email address will not be published.