Breaking News

Russia-Ukraine War के बीच इस शख्स ने बचाई 250 से अधिक जानवरों की जान

रुस और यूक्रेन के बीच जारी इस युद्ध को 1 महीने से अधिक का समय बीतने जा रहा है। इस युद्ध में कई निर्दोष जानों की बलि चढ़ चुकी है। ऐसे में ज्यादातर लोग देश छोड़ कर जाने को मजबूर हैं। इस बात से तो आप सब वाकिफ ही हैं कि संकट के समय में हर कोई अपनी जान बचाने के विषय में सोंचता है। लेकिन क्या आपने ऐसे किसी शख्स के बार में पहले कभी सुना है जिसने मुसीबत के समय मासूम जानवरों की जान बचाने का बीड़ा उठाया हो?

आज हम आपको ऐसे ही एक शख्स के विषय में बताने जा रहे हैं जो गली-गली घूमकर आवारा जानवरों को सेफ जगह पहुंचा रहा है।

200 बिल्ली और 60 कुत्तों की बचाई जान

इस जोखिम भरे काम को अंजाम देने वाले इस शख्स का नाम जाकुब कोटोविक्स है। पोलैंड का रहने वाला यह शख्स बॉर्डर पार कर यूक्रेन में दाखिल हो गया था। इसके बाद यहां पहुंचकर पिछले 15 दिनों में इसने 200 बिल्लियों और 60 कुत्तों की जान बचाई है।

जानकारी के मुताबिक, जाकुब की इस पहल से युद्ध की गड़गड़ाहट से दहशत में आने वाले जानवर अब मानसिक रुप से ठीक हो रहे हैं। इन जानवरों में एक बकरी का बच्चा भी शामिल है जिसका 2 महीने पहले जन्म हुआ था। इस बच्चे का नाम साशा है।
खबरों के अनुसार, जाकुब इन जानवरों के साथ एक ही दिन में बॉर्डर पार कर सकता है लेकिन युद्ध की वजह से हर कोई देश छोड़ने के लिए इसी रास्ते का सहारा ले रहा है। ऐसे में इस बॉर्डर पर बहुत भीड़ लगी हुई है। हालांकि, जाकुब धीरे-धीरे कुछ जानवरों को अपने साथ पोलैंड लाने में सफल हो रहे हैं।

जानवरों के लिए खर्च किए 12 लाख

इस विषय में बात करते हुए जाकुब ने बताया कि, जब मैं इन बिल्लियों को घर लेकर आया तो कुछ दिन ये डर के साए में थीं। हालांकि, अब ये खेलने-कूदने लगी हैं। उन्होंने बताया कि इन जानवरों को युद्धग्रस्त यूक्रेन से सुरक्षित निकालने के लिए 12 लाख रुपये देकर दो कारें किराए पर ली गई थीं। इनपर सवार होकर इन जानवरों को पोलैंड लाया गया। मालूम हो, पेशे से जाकुब एक पशु चिकित्सक हैं। वे पोलैंड के मशहूर एडीए फाउंडेशन में काम करते हैं। इसके अलावा वे एक निजी पशु चिकित्सालय भी चलाते हैं जिसमें वे जानवरों का मुफ़्त इलाज करते हैं। गौरतलब है, इस सबके लिए उन्हें डोनेशन प्राप्त होती है। इसकी मदद से वे जानवरों का ख्याल रखते हैं।

About Editorial Team

Check Also

1800 करोंड़ की लागत से बनकर तैयार हुआ यदाद्रि मंदिर, दरवाजों पर लगा है 125 किलो से अधिक सोना

साउथ इंडिया के मंदिरों की बात ही निराली होती है। यहां के लोगों में ईश्वर …

Leave a Reply

Your email address will not be published.