Breaking News

कालकोठरी में रहकर इस कैदी ने चमकाया भविष्य, तैयारी कर क्लीयर किया IIT-JAM का एग्ज़ाम

आमतौर पर जब किसी व्यक्ति को जेल की सजा सुनाई जाती है तो समाज उसे घृणा की नज़र से देखना शुरु कर देता है। हालांकि, यह एक स्वाभाविक प्रक्रिया है जिसपर किसी तरह की शंका या सवाल करना व्यर्थ है। लेकिन यह बात भी सत्य है कि अदालत एक मुजरिम को जेल इसलिए भेजती है जिससे की उसके आचरण में सुधार आ सके। कई बार कुछ कैदियों में इसका प्रभाव देखने को भी मिलता है। वे अपने बरताव में बदलाव लाकर एक अच्छा इंसान बनने की राह पर चल देते हैं।

आज हम आपको ऐसे ही एक व्यक्ति के विषय में बताने जा रहे हैं जिसने जेल में रहते हुए आईआईटी जेम जैसे कंपटीटिव एग्जाम की पहले तो तैयारी की और फिर उसे पासकर इतिहास रच दिया। इस व्यक्ति का नाम सूरज कुमार उर्फ कौशलेंद्र है। बिहार के वारिसलीगंज थाना क्षेत्र के मोसमा गांव के रहने वाले सूरज ने आईआईटी जेम में 54वां स्थान प्राप्त किया है। यह कारनामा उन्होंने जेल की चारदीवारी में कैद रहकर किया है। इस खबर ने हर उस शख्स की आखे खोल दी हैं जो मेहनत करने से बचने के लिए परिस्थितियों को कसूरवार ठहराते हैं।

जेलर ने की मदद

बता दें, सूरज पिछले एक साल से बिहार की नवादा जेल में कैद हैं। उन्होंने हाल ही में आईआईटी रुड़की द्वारा आयोजित किए गए जेएएम 2022 के एग्जाम में इस सफलता को हांसिल किया है। उनका सपना है कि जेल से बाहर निकलकर वे एक सफल आईआईटियन बनें और देश का नाम रौशन करें। उन्होंने अपनी इस सफलता का श्रेय जेलर अभिषेक कुमार पाण्डेय और अपने बड़े भाई वीरेंद्र यादव दिया है। सूरज ने पत्र के माध्यम से दुनिया को यह बताया है कि एक अभिषेक पांडे ही थे जिन्होंने उसपर विश्वास किया और उसे आईआईटीएन बनने के लिए प्रेरित किया। उन्होंने ही जेल में रहते हुए सूरज के लिए किताबें और नोट्स समेत अन्य स्टडी मैटेरियल की व्यवस्था की।

हत्या का आरोप

मालूम हो, सूरज पर अपने ही गांव के संजय यादव की हत्या का आरोप लगा हुआ है। इस मामले में पिछले एक साल से वे जेल में बंद हैं जबकि मामला कोर्ट में चल रहा है। बताया जा रहा है कि गांव में रास्ते को लेकर दो पक्षों में विवाद हो गया था। यह विवाद इतना बढ़ गया कि दोनों पक्षों के बीच जमकर मारपीट हो गई थी। अप्रैल 2021 को हुई इस मारपीट में संजय यादव काफी घायल हो गए थे। इस दौरान उन्हें पटना इलाज के लिए ले जाया जा रहा था लेकिन उनकी रास्ते में ही मौत हो गई थी। इसके बाद संजय के पिता बासो यादव ने सूरज, उसके पिता अर्जुन यादव समेत नौ लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया था। जानकारी के अनुसार, 19 अप्रैल 2021 को पुलिस ने सूरज समेत चार लोगों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था।

About Editorial Team

Check Also

दी कश्मीर फाइल्स के साथ साथ बॉलीवुड की यह फिल्में भी इन देशों में कर दी गई बैन, कारण जानकर हैरान हो जाएंगे आप

आज की इस लेख में हम बात करने जा रहे हैं बॉलीवुड इंडस्ट्री की बनी …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *