Breaking News

2 हजार साल पुराना शहद, जानिये क्या है इसकी खासियत

शहद का जिक्र लगभग सभी पुराने धर्मों में किया गया है। शहद दुनिया में सभी जगह मिलने वाला उत्पाद है। यह लोगों के शरीर के लिए काफी लाभदायक होता है। इसका सेवन हमारे देव ऋषि भी किया करते थे।

2 हजार साल पुराना शहद

बताया जाता है कि आज से हजारों साल पहले वकील मार्कस सिसेरो ने एक हत्या के आरोपी के पक्ष में वकालत की थीं। इस दौरान उन्होंने सार्डीनिया के आइलैंड के बारे में कहा था कि इस आइलैंड के इंसान बुरे होते हैं यहां तक की यहां का शहद भी कड़वा होता है।

लेकिन क्या आपको पता है कि इटली में इस शहद के कड़वा होने के कारण इसे सबसे अच्छा शहद मानते हैं। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, सिसेरो ने 106 से 43 ईसा पूर्व इस शहद को कड़वा बताया था। इस बात से अंदाजा लगाया जा सकता है कि शहद का उपयोग कितने समय से लोगों के द्वारा किया जा रहा है।

कठिनाइयों से तैयार होता है शहद

इस शहद का निर्माण कॉर्बेजेलो पौधों के फूल से किया जाता है। कॉर्बेजेलो को बनाना काफी कठिन काम होता है। इन फूलों को खिलने के लिए एक खास मौसम की जरूरत होती है। ये फूल ज्यादा वर्षा में फूलते हैं। इनका आकार बेल की तरह होता है। इस कारण से मधुमक्खियों को फूलों के अंदर जाने के लिए काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता है। लेकिन लोगों के द्वारा फिर भी इसको पसंद किया जाता है। दुनिया भर में इसकी मांग बढ़ती रहती है। इसका स्वाद सिरका, देवदार के पेड़ के पत्तों के समान होता है।

लोगों लिए करता है जड़ी बूटी की तरह काम

अब तक इस शहद के बारे में यह पता नहीं लगाया गया है कि इसके कड़वा होने की वजह क्या है। कुछ वैज्ञानिकों के मुताबिक, शहद में ग्लाइकोसाइड आरब्यूटिन नाम का तत्व पाया जाता है जिसके कारण इस में कड़वाहट पैदा होती है। जिसमें कई प्रकार के तत्व मिलते हैं जिसके कारण यह लोगों में खांसी, बलगम और नींद लाने जैसी समस्याओं को दूर करता है।

About Editorial Team

Check Also

दी कश्मीर फाइल्स के साथ साथ बॉलीवुड की यह फिल्में भी इन देशों में कर दी गई बैन, कारण जानकर हैरान हो जाएंगे आप

आज की इस लेख में हम बात करने जा रहे हैं बॉलीवुड इंडस्ट्री की बनी …

Leave a Reply

Your email address will not be published.