Breaking News

हिजाब पहनकर फुटबॉल खेलने वाली इस लड़की को जानते हैं?

देश में पिछले कुछ सालों में क्रिकेट, कुश्ती, फुटबॉल आदि खेलों में महिलाओं की सहभागिता काफी बढ़ी है। इससे ना सिर्फ ना सिर्फ महिलाओं की प्रतिभाओं को निखरने का मौका मिला है साथ ही साथ नारी सशक्तिकरण में भी मदद मिली है। यही कारण है केंद्र सरकार भी महिलाओं की प्रत्येक क्षेत्र में सहभागिता के लिए तमाम तरह की योजना चला रही है। इससे स्त्रियों में आत्मविश्वास की बढ़ोतरी हो रही है और उन्हें समान अवसर प्राप्त हो रहे हैं।

हालांकि, समाज का एक वर्ग ऐसा भी है जो महिलाओं को चूल्हे-चौके आदि तक सीमित रखना चाहता है। उनका मानना है कि स्त्रियां यदि बाहर काम करेंगी तो घर का काम कौन करेगा। इसलिए उन्हें अवसर देने की बजाए उन्हें घरों में ही कैद करने में अपनी बहादुरी समझते हैं।

आज हम आपको ऐसी ही एक लड़की के विषय में बताने जा रहे हैं जिसने अपने टैलेंट के दमपर अपनी पहचान बनाई और लोगों के मुंह बंद कर दिए। हम बात करे रहे हैं केरल के मुक्कम की रहने वाली हादिया हकीम की। 17 वर्षीय हादिया मुक्कम के चेंदमंगल्लूर हायर सेकेंडरी स्कूल से 12वीं की पढ़ाई कर रही हैं। साथ ही स्टेट की सुप्रसिद्ध फुटबॉलर हैं।

आमतौर पर लड़कियों में फुटबॉल को लेकर कोई दिलचस्पी नहीं होती है। लेकिन हादिया का बचपन फुटबॉल से जुड़ी कहानियां सुनकर ही बीता। उनके पिता अब्दुल हकीम फुटबॉल के खिलाड़ी रह चुके हैं जिसकी वजह से हादिया अक्सर पिता के मुंह से फुटबॉल से जुड़ी बारिकियों के विषय में सुनती रहती थीं।

football player hadiya hakim who smashing stereotypes of society

जैसे-जैसे वे बड़ी होती गईं उन्होंने अपने भाईयों के साथ मिलकर फुटबॉल खेलना प्रारंभ कर दिया। अपने भाईयों से हादिया ने फुटबॉल के तमाम गुण सीखे। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, हादिया हमउम्र की लड़कियों के साथ फुटबॉल खेलना चाहती थीं लेकिन उन्हें अपने आसपास कोई ऐसी लड़की दिखती ही नहीं थी जिसकी फुटबॉल में रुचि हो।

एक दिन उन्हें स्कूल में होने वाले वार्षिक फुटबॉल टूर्नामेंट के विषय में पता चला। इसपर उन्होंने टीचर्स से गुहार लगाई कि वे भी इस खेल में हिस्सा लेंगी, उन्हें भी टीम में शामिल किया जाए। लेकिन टीचर्स माने नहीं। हादिया इसके बाद भी जिद पर अड़ी रहीं कि कम से कम उन्हें उनकी फ्री स्टाइल प्रतिभा को प्रदर्शित करने का मौका दिया जाए। बहुत देर तक चले मान-मनौव्वर के बाद टीचर्स मान गए।

इसके बाद जो हुआ उसने सभी को चौंका कर रख दिया। स्कूल परिसर में हुए फुटबॉल टूर्नामेंट में हादिया ने अपनी फ्री स्टाइल प्रतिभा का प्रदर्शन किया। इस दौरान उन्होंने फुटबॉल को एक बार हवा में उछाला उसके बाद उसे काफी देर तक जमीन में आने ही नहीं दिया। उनकी यह करामात देखकर सभी की आंखें खुली की खुली रह गईं।

गौरतलब है, इस बीच किसी ने उनके इस करतब का वीडियो बनाकर सोशल मीडिया पर अपलोड कर दिया। इसके बाद हादिया का यह वीडियो इतना वायरल हुआ कि उन्हें तमाम जगहों से फुटबॉल टूर्नामेंट में खेलने के लिए ऑफर आने लगे। अब हादिया एक स्टार बन चुकी हैं और एक पेशेवर फुटबॉलर बनने की तैयारी कर रही हैं।

About Editorial Team

Check Also

1800 करोंड़ की लागत से बनकर तैयार हुआ यदाद्रि मंदिर, दरवाजों पर लगा है 125 किलो से अधिक सोना

साउथ इंडिया के मंदिरों की बात ही निराली होती है। यहां के लोगों में ईश्वर …

Leave a Reply

Your email address will not be published.