Breaking News

उज्जैन में मिला 1000 साल पुराना शिवलिंग, खुदाई में मिले मंदिर के अवशेष

भारत का धार्मिक इतिहास काफी पुराना है। धरती की गोद में भारत की सांस्कृतिक विरासत के कई साक्ष्य छुपे हुए हैं जो समय-समय पर उजागर होते हैं। ऐसा ही एक धार्मिक साक्ष्य उज्जैन में मिला है। जी हां, उज्जैन से 35 किमी दूर कलमोड़ा में पुरातत्व विभाग द्वारा की जा रही खुदाई में एक विशालकाय शिवलिंग मिला है। अंदाजा लगाया जा रहा है कि यह शिवलिंग 1000 साल पुराना है। इसके अलावा खुदाई के दौरान मंदिर के अवशेष भी मिले हैं जिससे दावा किया जा रहा है कि हजारों साल पहले इस जगह पर कोई मंदिर था।

खुदाई में मिले मंदिर के अवशेष

आयुक्त पुरातत्व के निर्देशन में की जा रही खुदाई में मंदिर के शिला लेख स्थापत्य खंड के साथ शिव, विष्णु, नंदी जलहरी की खंडित मूर्तियां मिली हैं।

15 मीटर लंबा शिवलिंग

बता दें, पुरातत्व शोध संस्थान भोपाल के निर्देशक डॉ. वाकणकर ने आज से दो साल पहले इस स्थान का सर्वेक्षण किया था। इस दौरान उन्होंने इस स्थान पर मंदिर के अवशेष होने का अंदाजा लगाया था। जिसके बाद भोपाल पुरातत्व विभाग की टीम ने मंदिर में पुरातत्व रिसर्च अधिकारी डॉ. धुर्वेंद्र जोधा के निर्देशन में खुदाई शुरु की। हालांकि, पिछले साल कोरोना की वजह से इसे रोक दिया गया था। हालांकि, अब जब इसकी दोबारा शुरुआत हुई तो इसमें 15 मीटर लंबा शिवलिंग पाया गया है।

अधिकारियों का कहना है कि मंदिर के अवेशषों से अंदाजा लगाया जा सकता है कि यह मंदिर तकरीबहन 1000 साल पुराना है। अपने ज़माने में यह काफी बड़ा रहा होगा। इसके अलावा अधिकारियों ने आगे की खुदाई में मंदिर से जुड़े अन्य अवशेष मिलने की आशंका जताई है।

पूर्वमुखी मंदिर

मीडिया से बात करते हुए डॉ. जोधा ने बताया कि इस पूर्व मुखी मंदिर के अवशेष पिछले वर्ष मिले थे। इसके बाद अब पूरा गर्भगृह निकला है। वर्गाकार के इस गर्भगृह की जल निकासी उत्तर दिशा की ओर है। इसके अलावा खुदाई के दौरान कीर्ति मुख, कलश, आमलक स्थापत्य खंड निकले हैं।

About Editorial Team

Check Also

1800 करोंड़ की लागत से बनकर तैयार हुआ यदाद्रि मंदिर, दरवाजों पर लगा है 125 किलो से अधिक सोना

साउथ इंडिया के मंदिरों की बात ही निराली होती है। यहां के लोगों में ईश्वर …

Leave a Reply

Your email address will not be published.